Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

बार काउंसिल ऑफ इंडिया अपनी प्रभावशाली स्थिति का दुरुपयोग कर रही हैः एलएलबी कोर्स के लिए अधिकतम उम्र सीमा के ‌खिलाफ सीसीआई में याचिका

LiveLaw News Network
4 Dec 2020 4:00 AM GMT
बार काउंसिल ऑफ इंडिया अपनी प्रभावशाली स्थिति का दुरुपयोग कर रही हैः एलएलबी कोर्स के लिए अधिकतम उम्र सीमा के ‌खिलाफ सीसीआई में याचिका
x

बार काउंसिल ऑफ इंडिया, भारत में कानूनी शिक्षा को नियंत्रित करने में अपनी प्रभावशाली स्थिति का दुरुपयोग करते हुए, कानूनी शिक्षा के नियम, 2008 के खंड संख्या 28 के माध्यम से, कानूनी शिक्षा में प्रवेश करने के लिए अधिकतम आयु सीमा लगाकर कानूनी सेवा के पेशे में नए प्रवेशकों के लिए अप्रत्यक्ष प्रवेश अवरोध पैदा कर रहा है। भारत के प्रतिस्पर्धा आयोग के समक्ष दायर एक शिकायत में यह आरोप लगाया गया है।

आंध्र प्रदेश के 52 साल के निवासी थुपिली रवीन्द्र बाबू ने कानूनी शिक्षा हासिल करने की इच्छा जताते हुए आयोग की विजयवाड़ा पीठ के समक्ष शिकायत दर्ज कराई है।

शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया है कि सामान्य उम्मीदवारों के लिए कानूनी शिक्षा प्राप्त करने के लिए कानूनी शिक्षा के नियम, 2008 के खंड 28 के तहत निर्धारित 30 वर्ष की ऊपरी आयु सीमा, जिसे बीसीआई ने निर्धारित किया है, परिषद द्वारा "अपने प्रभावाशाली पद के दुरुपयोग" के बराबर है, और यह प्रतियोगिता अधिनियम, 2002 की धारा 4 के खिलाफ है।

यह प्रस्तुत किया गया है कि "शक्ति के इस प्रकार के दुरुपयोग" से, बीसीआई उन हजारों उम्मीदवारों को वंचित करता है, जो भारत में कानूनी शिक्षा प्राप्त करने का सपना देखते हैं, और अपने उम्मीदवारों के लिए प्रतिस्पर्धा को कम करता है।

अतः बीसीआई के कानूनी शिक्षा के नियम, 2008 के खंड 28, को तत्काल "अवैध और शून्य" घोष‌ित करने का आग्रह किया गया है, और बीसीआई पर प्रतियोगिता अधिनियम, 2002 की धारा 4 के उल्लंघन के लिए अधिकतम जुर्माना लगाने का आग्रह किया गया है।

अंतरिम राहत के रूप में, शिकायतकर्ता ने आयोग से इस प्रावधान के संचालन को निलंबित करने का आग्रह किया है, जब तक कि मामला अंतिम रूप नहीं ले लेता।

अपनी शिकायत में, थुपिली ने खुलासा किया कि वह केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय के तहत सीपीडब्ल्यूडी में एक कार्यकारी इंजीनियर के रूप में काम कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कानून श‌िक्षा प्राप्त करने के बचपन के सपने को आगे बढ़ाने के लिए, उन्होंने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति का विकल्प चुना। इसके बाद, वह आंध्र प्रदेश में तीन वर्षीय एलएलबी प्रवेश परीक्षा के में शामिल हुए और राज्य के पहले रैंक धारक के रूप में उभरे.....।

उन्होंने प्रस्तुत किया कि वित्तीय बाधाओं के कारण वे पहले कानूनी शिक्षा नहीं ले सके थे और अब, बार काउंसिल द्वारा बनाई गई अप्रत्यक्ष प्रवेश बाधा के कारण उन्हें अपने सपने से वंचित किया जा रहा था।

उन्होंने प्रस्तुत किया, "बार काउंसिल ऑफ इंडिया जो भारत में अधिवक्ताओं का एक निर्वाचित निकाय है, भारत में कानूनी प्रै‌क्टिस के साथ-साथ कानूनी शिक्षा को भी नियंत्रित कर रहा है। यह कानूनी शिक्षा के साथ-साथ भारत में कानूनी अभ्यास को नियंत्रित करने में अपे प्रभावशाली स्थिति का आनंद ले रहा है।"

बार काउंसिल ऑफ इंडिया, भारत में कानूनी शिक्षा को नियंत्रित करने के लिए अपनी प्रमुख स्थिति का दुरुपयोग करता है। कानूनी शिक्षा के नियमों के खंड संख्या 28 के माध्यम से, कानूनी शिक्षा में प्रवेश करने के लिए अधिकतम आयु प्रतिबंध लगाकर कानूनी सेवा के पेशे में नए प्रवेशकों के लिए अप्रत्यक्ष प्रवेश अवरोध पैदा कर रहा है।

इन नियमों को पहली बार मार्च, 2009 में अधिसूचित किया गया था। बार काउंसिल ऑफ इंडिया की यह कार्रवाई भारत के प्रतियोगिता अधिनियम, 2002 की धारा 4 का उल्लंघन है। "

इतिहास

2016 में, बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने एक सर्कुलर जारी किया, जिसके द्वारा रूल्स ऑफ लीगल एजुकेशन, 2008 के रूल्स 11 के शेड्यूल III में खंड 28 जारी किया गया था, जो कि पहले 2013 में वापस ले लिया गया था। जिसके अनुसार, कानून की डिग्री के एकीकृत स्नातक में प्रवेश लेने के लिए अध‌िकतम उम्र 20 साल निर्धारित की गई।

इस फैसले को वर्ष 2017 में कानून के दो उम्मीदवारों द्वारा चुनौती दी गई थी, जिसके बाद परिषद ने 5 साल के लॉ कोर्स के लिए 20 से 22 साल और 3 साल के ग्रेजुएट कोर्स के लिए 30 से 45 साल की उम्र को अंतरिम उपाय के रूप में बढ़ा दिया।

उसमें यह कहा गया था कि अंतरिम माप केवल 2017 के शैक्षणिक वर्ष के लिए था, और सभी हितधारकों के परामर्श से, कानूनी शिक्षा समिति द्वारा भविष्य की कार्रवाई का निर्णय लिया जाएगा।

वर्तमान में, 3-वर्षीय एलएलबी पाठ्यक्रम में प्रवेश की ऊपरी सीमा 30 वर्ष है और 5-वर्षीय पाठ्यक्रम में 20 वर्ष है। इस स्‍थ‌िति को हाल ही में कानून की डिग्री हासिल करने की इच्छुक 77 वर्षीय महिला द्वारा सर्वोच्च न्यायालय में चुनौती दी गई थी।

Next Story