Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

'सुपर 30' के आनंद कुमार नहीं पहुंचे अदालत, गुवाहाटी हाईकोर्ट ने लगाया 50 हज़ार रुपए का जुर्माना

LiveLaw News Network
27 Nov 2019 8:17 AM GMT
सुपर 30 के आनंद कुमार नहीं पहुंचे अदालत, गुवाहाटी हाईकोर्ट ने लगाया 50 हज़ार रुपए का जुर्माना
x

गुवाहाटी उच्च न्यायालय ने 'सुपर 30' प्रसिद्धि के गणितज्ञ आनंद कुमार को व्यक्तिगत रूप से अदालत में पेश होने के लिए बार-बार निर्देश दिए लेकिन आनंद कुमार अदालत में पेश नहीं हुए। मंगलवार को भी आनंद कुमार को अदालत में पेश होना था लेकिन वे नहीं आए, जिसके बाद गुवाहाटी हाईकोर्ट ने आनंद कुमार पर 50,000 रुपये का जुर्माना लगाया।

मुख्य न्यायाधीश अजय लांबा और न्यायमूर्ति अचिंत्य मल्ल बुजोर बरुआ की पीठ ने आनंद कुमार द्वारा अदालत के आदेशों की अनदेखी करने पर नाराजगी व्यक्त की और उन्हें 28 नवंबर यानी गुरुवार को इससे पहले व्यक्तिगत रूप से अदालत में पेश होने के लिए कहा।

जुर्माने की राशि 50,000 रुपये का भुगतान करने पर यह राशि अभिषेक शर्मा नाम के एक छात्र और तीन अन्य छात्रों के बीच समान रूप से बांट दी जाएगी। पूर्वोत्तर के ये चार छात्र वर्तमान में आईआईटी गुवाहाटी में अध्ययन कर रहे हैं और इन्होंने गुवाहाटी हाईकोर्ट में जनहित याचिका लगाई थी।

इससे पहले कुछ छात्रों द्वारा जनहित याचिका पर अपना पक्ष रखने के लिए आनंद कुमार को 26 नवंबर को गुवाहाटी हाईकोर्ट में पेश होने का निर्देश दिया गया था।

मुख्य न्यायाधीश अजय लांबा और न्यायमूर्ति अचिंत्य मल्ला बुजोर बरुआ की पीठ ने आदेश दिया था कि,

"हम निर्देश देते हैं कि उत्तरदाता नंबर 8 (आनंद कुमार) को मामले की सुनवाई की अगली तारीख 26 नवंबर को व्यक्तिगत रूप से कोर्ट में उपस्थित रहना होगा। यदि उत्तरदाता नंबर 8 सुनवाई की अगली तारीख को उपस्थित नहीं होता है, तो हम कोर्ट में पेश होने के लिए उनके नाम ज़मानती वारंट जारी करने पर विवश होंगे।"

लेकिन आनंद कुमार 26 नवंबर को अदालत नहीं आए और कोर्ट ने उन पर 50,000 रुपए का जुर्माना लगाया।

यह है मामला

अदालत का यह आदेश आईआईटी गुवाहाटी में अध्ययनरत पूर्वोत्तर भारत के चार छात्रों द्वारा दायर जनहित याचिका पर आया था। याचिकाकर्ताओं ने अधिवक्ता अमित गोयल के माध्यम से कहा कि सुपर 30 के कामकाज में कोई पारदर्शिता नहीं है। कुमार ने पूर्व बिहार के डीजीपी अभयानंद के साथ मिलकर आईआईटी जेईई को क्रैक करने के लिए बिहार के गरीब छात्रों को पढ़ाने के लिए सुपर 30 की संकल्पना पेश की थी।

2008 में अभयानंद ने कुमार का साथ छोड़ दिया। याचिकाकर्ताओं ने आरोप लगाया कि नॉर्थ ईस्ट के बहुत सारे छात्र, जिन्होंने "सुपर -30 'में नामांकित होने के लिए" स्व-घोषित गणितज्ञ "कुमार" से संपर्क किया था, उन्हें उनके द्वारा एक कोचिंग संस्थान में "रामानुजन स्कूल" में भर्ती कराया गया। वहां प्रति छात्र 33,000 की राशि देने को कहा गया।

याचिका में कहा गया कि...

"अधिकांश समय प्रतिवादी नंबर 8 भारत और भारत के बाहर विभिन्न स्थानों पर घूमते हैं और आईआईटी के उम्मीदवारों को पर्याप्त समय नहीं देते हैं, जिन्होंने रामानुजम स्कूल ऑफ मैथेमेटिक्स में प्रवेश लिया था। ... जब भी आईआईटी के परिणाम घोषित हुए, उत्तरदाता 8 रामानुजम स्कूल ऑफ मैथमेटिक्स और कुछ छात्रों के साथ मीडिया के सामने पेश होते हैं और दावा करते हैं कि वे सुपर 30 छात्र हैं और IIT प्रवेश परीक्षा में पास हो गए हैं। उत्तरदाता नंबर 8 द्वारा बनाया गया झूठा प्रचार केवल IIT के आकांक्षी छात्रों और उनके अभिभावक को ही धोखा नहीं दे रहा है, बल्कि इस देश के आम लोगों को भी गुमराह किया जा रहा है।"

Next Story