Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

हादसे से 15 दिन पहले उन्नाव बलात्कार पीड़िता ने जान को खतरे के बारे में CJI को चिट्ठी लिखी थी

Live Law Hindi
31 July 2019 4:28 AM GMT
हादसे से 15 दिन पहले उन्नाव बलात्कार पीड़िता ने जान को खतरे के बारे में CJI को चिट्ठी लिखी थी
x

उन्नाव बलात्कार पीड़िता और उसके परिवार ने 12 जुलाई के एक पत्र लिखकर भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई को उन्हें मिल रही आपराधिक धमकी की शिकायत, सुरक्षा की कमी और सुरक्षात्मक उपाय करने के कदम उठाने का आग्रह किया था।

पत्र में लगाया गया आरोप एवं उसके मुख्य अंश
हिंदी में लिखे पत्र में यह आरोप लगाया गया है कि 7 जुलाई को सुबह करीब 9 बजे शशि सिंह (जिस महिला ने भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की ओर से पीड़िता को लालच दिया था) का बेटा नवीन, विधायक के भाई मनोज सिंह, कुन्नू मिश्रा और दो अज्ञात व्यक्ति उनके दरवाजे पर पहुंचे और उन्हें एक कार के अंदर से धमकी दी कि "
जज को खरीद लिया गया है
," तदनुसार, "कुलदीप सिंह और शशि सिंह की जमानत की पुष्टि हो गई है" और "पीड़ित परिवार को दुर्भावनापूर्ण अभियोजन के लिए जेल में सड़ने के लिए भेजा जाएगा।"

"इसका एक उदाहरण आप महेश सिंह के मामले में देख चुके हैं (बलात्कार पीड़िता के चाचा, जिनके खिलाफ 1 दर्जन से अधिक मामले दर्ज किए गए हैं, जिनमें रेलवे डकैती से लेकर हत्या की कोशिश तक शामिल है और जो रायबरेली की जेल में बंद हैं) ... अभी भी समय है ... समझौता कर लो, " परिवार को कथित तौर पर यह चेतावनी दी गई थी।

अगले दिन शशि सिंह के पति हरिपाल सिंह सुबह 10 बजे उनके आवास पर आए और "पूरे परिवार को जेल में सड़ने और दुर्भावनापूर्ण अभियोजन के आरोप में मरने के लिए तैयार" रहने की धमकी को दोहराया, पत्र में आगे यह कहा गया है।

पत्र में यह कहा गया है कि उन्होंने कार से आपराधिक धमकी और हरिपाल सिंह की तस्वीर की वीडियो-रिकॉर्डिंग की थी जिसे वो पत्र के साथ सलंग्न कर रहे हैं।

बलात्कार पीड़िता हुई है सड़क दुर्घटना का शिकार

रविवार को बलात्कार पीड़िता रायबरेली में एक सड़क दुर्घटना का शिकार हो गई जब एक ट्रक उनकी कार में घुस गया, जिससे उसकी चाची और मौसी की मौत हो गई और वकील और वो खुद गंभीर रूप से घायल हो गए। कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ इस सिलसिले में हत्या और आपराधिक साजिश रचने का केस दर्ज किया गया है।

विधायक कुलदीप सेंगर पर आरोप
यह आरोप है कि यूपी विधानसभा में बांगरमऊ का प्रतिनिधित्व करने वाले 4 बार के विधायक सेंगर ने वर्ष 2017 में अपने घर पर किशोरी के साथ बलात्कार किया था। लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आवास के बाहर से 13 अप्रैल, 2018 को सेंगर को गिरफ्तार किया गया था।

इससे पहले उसके पिता (पीड़िता के) को आर्म्स एक्ट के मामले में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था और हिरासत में कथित रूप से यातना दिए जाने के कारण उनकी मृत्यु हो गई। इसके अलावा मामले के एक प्रमुख गवाह की भी रहस्यमय परिस्थितियों में मृत्यु हो गई थी।





Next Story