Top
ताजा खबरें

हिरासत में यातना को रोकने के लिए कोई कानून बनाने की कोई योजना नहीं: लोक सभा में केंद्र

LiveLaw News Network
16 Sep 2020 8:06 AM GMT
हिरासत में यातना को रोकने के लिए कोई कानून बनाने की कोई योजना नहीं: लोक सभा में केंद्र
x

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने मंगलवार को लोकसभा को सूचित किया कि उसके पास हिरासत में यातना देने पर एक कानून लाने की कोई योजना नहीं है।

गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने सदन को सूचित किया कि भारतीय दंड संहिता इस तरह के अपराधों के लिए सजा प्रदान करती है और इसके लिए अलग कानून लाने की कोई योजना नहीं है।

राज्य मंत्री ने डीएमके सांसद कनिमोझी करुणानिधि द्वारा पूछे गए सवाल के जवाब में यह बात कही। कनिमोझी ने पूछा था कि क्या सरकार पुलिस और सार्वजनिक अधिकारियों द्वारा हिरासत में व्यक्तियों की यातना को रोकने के लिए एक कानून लाने पर विचार कर रही है।

इस पर मंत्री ने कहा, "इस संबंध में एक कानून लाने का कोई प्रस्ताव नहीं है।"

उन्होंने सदन को सूचित किया कि "पुलिस" और "लोक व्यवस्था" भारत के संविधान की सातवीं अनुसूची के तहत राज्य विषय हैं और यह मुख्य रूप से राज्य सरकारों की जिम्मेदारी है कि वे कानून का अनुपालन सुनिश्चित करें और लोगों के जीवन और संपत्ति की रक्षा करें।

यह ध्यान रखना उचित है कि हिरासत में मौतों के सामान्यीकरण की बढ़ती प्रवृत्ति की पृष्ठभूमि में सुप्रीम कोर्ट ने डीके बसु केस को पुनर्जीवित करने के लिए नए दिशानिर्देश जारी करने के अनुरोधों पर विचार करने का फैसला किया है। तमिलनाडु में पुलिस हिरासत में हुई जयराज और बेनिक्स की पिता-पुत्र जोड़ी हत्या ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया था। इस केस में तमिलनाडु पुलिस द्वारा पिता-पुत्र की जोड़ी को जेल में पीट-पीटकर मार डाला गया था।

पिछले साल शीर्ष अदालत ने पूर्व कानून मंत्री और वरिष्ठ अधिवक्ता डॉ. अश्विनी कुमार की याचिका को खारिज कर दिया था, जिसमें केंद्र सरकार को हिरासत में यातना के खिलाफ व्यापक कानून बनाने का निर्देश देने की मांग की थी।

Next Story