Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

अनुसूचित जाति के व्यक्ति को किसी दूसरे राज्य में आरक्षण का लाभ नहीं मिलेगा : सुप्रीम कोर्ट [निर्णय पढ़ें]

LiveLaw News Network
30 Aug 2018 3:42 PM GMT
अनुसूचित जाति के व्यक्ति को किसी दूसरे राज्य में आरक्षण का लाभ नहीं मिलेगा : सुप्रीम कोर्ट [निर्णय पढ़ें]
x

एक महत्वपूर्ण और ऐतिहासिक निर्णय में गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि एक व्यक्ति जो अपने मूल राज्य में अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के सदस्य के रूप में पहचाना जाता है, केवल उसी राज्य में संविधान के तहत आरक्षण के सभी लाभों का हकदार होगा और प्रवासी राज्य / संघ शासित प्रदेश में आरक्षण के लाभ का वो हकदार नहीं होगा। दिल्ली में सरकारी रोजगार में अनुसूचित जाति से संबंधित आरक्षण केंद्रीय सूची के हिसाब से मिलेगा।

पांच जजों के संविधान पीठ जिसमें जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस एन वी रमना, जस्टिस आर बानुमति, जस्टिस मोहन एम शांतनागौदर और जस्टिस एस अब्दुल नजीर शामिल थे, ने ये फैसला सुनाया है।

 उदाहरण के तौर पर  किसी  व्यक्ति को आंध्र प्रदेश में SC के रूप में घोषित किया जाता है तो महाराष्ट्र में उसके प्रवास पर वह SC कोटा के लाभ का हकदार नहीं होगा क्योंकि इस तरह के लाभ से लाभ उठाने से महाराष्ट्र में रहने वाले एक SC व्यक्ति को कोटा से वंचित कर दिया जाएगा।

ये फैसला 4:1 के बहुमत से दिया गया है। एक अलग फैसले में जस्टिस बानुमति ने इस सीमा तक फैसला दिया कि कोटा का लाभ दिल्ली में भी प्रवासी SC के लिए उपलब्ध नहीं होगा। संविधान बेंच एक संदर्भ का जवाब दे रही थी कि क्या एक राज्य का व्यक्ति जो वहां अनुसूचित जाति में है, दूसरे राज्य में अनुसूचित जाति में मिलने वाले आरक्षण का लाभ ले सकता है या नही।

 अपने मुख्य फैसले में जस्टिस गोगोई ने कहा कि संविधान के अनुच्छेद 341 (1) ने किसी भी राज्य या संघ शासित प्रदेश के संबंध में राष्ट्रपति को अधिकार दिया है और जहां यह राज्य है, राज्यपाल के परामर्श के बाद, सार्वजनिक अधिसूचना द्वारा जातियों को निर्दिष्ट करने के लिए, जनजातियों या जातियों, जातियों या जनजातियों के समूह या संविधान के प्रयोजनों के लिए राज्य या संघ शासित प्रदेश के संबंध में अनुसूचित जाति समझा जा सकता है, जैसा भी मामला हो।

अनुसूचित जनजातियों के मामले में राष्ट्रपति को संविधान के अनुच्छेद 342 (1) के तहत समान रूप से अधिकार दिया गया है। जस्टिस गोगोई ने कहा कि एक राज्य में SC से संबंधित व्यक्ति को किसी भी अन्य राज्य के संबंध में SC व्यक्ति माना नहीं जा सकता, जिसके लिए वह रोजगार या शिक्षा के उद्देश्य से प्रवास करता है। यदि अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के सदस्य को भारत के पूरे क्षेत्र में उस स्थिति का लाभ मिलता है तो "उस राज्य के संबंध में ये अभिव्यक्ति तुच्छ हो जाएगी।

 आगे जस्टिस गोगोई ने कहा कि अगर किसी विशेष राज्य में अनुसूचित जातियों या अनुसूचित जनजातियों को दिए गए  विशेषाधिकार या अधिकार सभी राज्यों में उपलब्ध कराए जाएंगे और यदि ऐसे लाभ राज्य 'ए' से राज्य 'बी' में  माइग्रेशन किया जाना हैं  तो अनुच्छेद 341/342 का जनादेश समझौता किया जाएगा। इस तरह के एक परिणाम से बचा जाना चाहिए क्योंकि यह एक मौलिक सिद्धांत है कि संविधान द्वारा प्रदान किए गए आरक्षण के लाभ एक राज्य / संघ शासित प्रदेश के भौगोलिक क्षेत्रों तक ही सीमित रहेंगे, जिसके संबंध में समय-समय पर जारी राष्ट्रपति आदेशों द्वारा अनुसूचित जातियों / अनुसूचित जनजातियों की सूचियों को अधिसूचित किया गया है।

 बेंच ने कहा कि अनुसूचित जातियों के संबंध में अनुच्छेद 341 के तहत जारी किए गए राष्ट्रपति आदेश और अनुसूचित जनजातियों के संबंध में अनुच्छेद 342 के तहत न्यायालय समेत किसी भी प्राधिकारी द्वारा अलग या परिवर्तित नहीं किया जा सकता। यह अकेले संसद है जिसे उस राज्य के भौगोलिक क्षेत्र के भीतर के कानून और उससे परे कानूनों के लिए निहित किया गया है। अदालत ने कहा कि यदि किसी राज्य की राय में उस विशेष राज्य के लिए सूची में निर्दिष्ट एससी / एसटी की कक्षा / श्रेणी में आरक्षण का लाभ उठाना आवश्यक है तो संवैधानिक अनुशासन  की आवश्यकता होगी।राज्य सरकार अनुसूचित जाति जनजाति के लिस्ट को खुद से बदलाव नही कर सकती बल्कि से संसद के माध्यम राष्ट्रपति के अधिकार के दायरे में है। राज्य सरकार संसद की अनुमति से ही लिस्ट में बदलाव कर सकती है। अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति की सूची में संशोधन द्वारा उचित संसदीय अभ्यास को सक्षम किया जा सकता है। यह कहा गया है कि संविधान के अनुच्छेद 16 (4) (आरक्षण प्रदान करने की शक्ति) के आधार पर राज्यों द्वारा एकतरफा कार्रवाई संवैधानिक अराजकता का एक संभावित ट्रिगर बिंदु हो सकती है और इसे संविधान के तहत अपरिहार्य माना जाना चाहिए।


 
Next Story