Top
मुख्य सुर्खियां

NEET की परीक्षा देने के लिए तमिलनाडु के उम्मीदवारों को जाना पड़ रहा है काफी दूर; सुप्रीम कोर्ट ने सीबीएसई से कहा, भविष्य में ज्यादा असुविधा न हो यह सुनिश्चित करें [आर्डर पढ़े]

LiveLaw News Network
6 May 2018 6:03 AM GMT
NEET की परीक्षा देने के लिए तमिलनाडु के उम्मीदवारों को जाना पड़ रहा है काफी दूर; सुप्रीम कोर्ट ने सीबीएसई से कहा, भविष्य में ज्यादा असुविधा न हो यह सुनिश्चित करें [आर्डर पढ़े]
x

सुप्रीम कोर्ट ने मद्रास हाई कोर्ट के उस आदेश को निरस्त कर दिया जिसमें सीबीएसई को इस वर्ष की नेशनल एलिजिबिलिटी-कम-एंट्रेंस टेस्ट  (NEET) के लिए तमिलनाडु में अतिरिक्त परीक्षा केंद्र बनाने को कहा गया था। इस टेस्ट में शामिल होने वाले तमिलनाडु के कुछ छात्रों को राजस्थान और केरल स्थित केंद्रों पर परीक्षा देने जाना पड़ेगा। सुप्रीम कोर्ट ने सीबीएसई बोर्ड से कहा है कि भविष्य में वह यह सुनिश्चित करे कि छात्रों को ज्यादा परेशानी न हो।

न्यायमूर्ति एसए बोबडे और न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव ने मद्रास हाई कोर्ट के 27 अप्रैल के उस आदेश को निरस्त कर दिया जिसमें उसने सीबीएसई से कहा था कि वह तमिलनाडु के छात्रों के लिए अतिरिक्त परीक्षा केंद्र बनाए क्योंकि अनेक छात्रों को परीक्षा देने के लिए केरल और राजस्थान के परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा देने के लिए जाना पड़ेगा।

सीबीएसई ने इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी।

“पक्षकारों के वकीलों की दलील सुनने के बाद, हमें पता चला है कि अगर 27 अप्रैल 2017 के मद्रास हाई कोर्ट के आदेश को इस वर्ष 2017-18 में लागू किया गया तो इससे काफी मुश्किल पैदा होगी।

“हालांकि, याचिकाकर्ता इस बात का ख़याल रखेगा कि भविष्य में छात्रों को इस मुद्दे को लेकर ज्यादा परेशानी न हो खासकर तमिलनाडु के छात्रों को,” पीठ ने याचिका पर सुनवाई समाप्त करते हुए यह बात कही।

NEET दे रहे तमिलनाडु के छात्रों को सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से निराशा हुई है। यह परीक्षा 6 मई 2018 को होनी है।

मद्रास हाई कोर्ट में यह याचिका एस कलिमुथु मिलावन ने दायर किया था।


 
Next Story