Top
Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

अगर अपीलीय कोर्ट निर्दोष होने के फैसले को पलटकर दोषी करार देती है तो सजा के सवाल पर आरोपी की सुनवाई की जरूरत नहीं : कर्नाटक हाई कोर्ट [निर्णय पढ़ें]

LiveLaw News Network
3 March 2018 3:41 PM GMT
अगर अपीलीय कोर्ट निर्दोष होने के फैसले को पलटकर दोषी करार देती है तो सजा के सवाल पर आरोपी की सुनवाई की जरूरत नहीं : कर्नाटक हाई कोर्ट [निर्णय पढ़ें]
x

कर्नाटक उच्च न्यायालय ने माना है कि अपीलीय अदालत द्वारा निचली अदालत के निर्दोष ठहराए जाने को पलटते हुए दोषी ठहराए जाने के फैसले के दौरान सजा पर आरोपी की सुनवाई की जरूरत नहीं है।

न्यायमूर्ति एस सुजाता और न्यायमूर्ति जॉन माइकल चुन्हा की पीठ ने अपनी पत्नी की हत्या के आरोपी व्यक्ति को निर्दोष ठहराने के ट्रायल कोर्ट के फैसले को उलट दिया।

निचली अदालत ने निष्कर्ष निकाला था कि एक मोटर वाहन दुर्घटना में ये मृत्यु हो गई थी और अभियोजन यह साबित करने में नाकाम रहा कि कि वैवाहिक घर में पत्नी के साथ क्रूरता बरती गई थी।

उन निष्कर्षों को पीछे छोड़ते हुए उच्च न्यायालय ने कहा कि आरोपी पति ने ही पत्नी की हत्या की और अपराध को छिपाने के लिए उसने मृत शरीर को मोटरसाइकिल के पास सड़क के किनारे रखा और उसकी हेडलाइट खराब कर दी। इसके बाद वहां से दूर भाग गया। वो तब तक फरार रहा जब तक उसे गिरफ्तार नहीं किया गया।

सजा सुनाने के दौरान अभियुक्त के वकील ने सवाल उठाया कि अपीलीय अदालत को अभियुक्त को निर्दोष ठहराए जाने के आदेश को पलट कर दोषी करार देने पर आरोप की प्रकृति और सजा पर आरोपी को सुनना चाहिए।

 बेंच ने निष्कर्ष निकाला कि बरी किए जाने के आदेश की अपील में अपीलीय अदालत अपनी शक्तियों के तहत निर्दोष होने के फैसले को वापस कर सकती है और "कानून के अनुसार" फिर से मुकदमा चलाने या अपराध की फिर से जांच के आदेश दे सकती है।

 कोड में सजा देने के मामले में न्यायालय की शक्तियों पर किसी भी तरह बंधन नहीं है, सिवाय इसके कि प्रस्तावित फैसला "कानून के अनुसार" होना चाहिए, बेंच ने कहा।

सीआरपीसी की धारा 325 और धारा 248 का हवाला देते हुए अदालत ने कहा कि सत्र न्यायालय और मजिस्ट्रेट वारंट मामले में अभियुक्त को सजा के सवाल पर सुनना जज के लिए अनिवार्य है और उसके बाद ही कानून के अनुसार सजा को लागू किया जा सकता है। इन वर्गों को अपील में संहिता के अध्याय XXIX के तहत अपील की सुनवाई के लिए लागू नहीं किया जाता।

अदालत ने आगे कहा: "उपरोक्त प्रावधानों से उत्पन्न होने वाले प्रतिबंध केवल यह है कि अपीलीय अदालत अभियुक्तों की सुनवाई का अवसर दिए बिना सजा को बढ़ा नहीं सकती और दूसरा, अपीलीय अदालत  अपराध के लिए निर्धारित सजा की तुलना में अधिक सजा नहीं दे सकती।

इन दो प्रतिबंधों को छोड़कर संहिता में आदेश के पलटने पर सजा से पहले आरोपी को सुनने के लिए अपीलीय कोर्ट की आवश्यकता पर  कोई अन्य प्रतिबंध नहीं लगाया गया है। "

 अदालत ने स्पष्ट किया: "हम यह स्पष्ट करते हैं कि आरोपी को मौत की सजा सुनाए जाने की स्थिति में हालात अलग होते तो उस मामले में जरूरी है कि अभियुक्त को न्यायालय के नोटिस पर लाने का एक नया मौका दिया जाना चाहिए जो परिस्थितियों के रूप में उचित सजा देने में कोर्ट की मदद कर सकता है।"


 
Next Story