Top
Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

कलकत्ता हाईकोर्ट ने आठ लोगों की मौत की सजा कम की [निर्णय पढ़ें]

LiveLaw News Network
11 Feb 2018 5:16 AM GMT
कलकत्ता हाईकोर्ट ने आठ लोगों की मौत की सजा कम की [निर्णय पढ़ें]
x

हम पाते हैं कि संदर्भ में मामला केवल बदले की कार्रवाई का मामला है और उस दृश्य में इस मामले में, हम इसे दुर्लभतम से भी दुर्लभ  के रूप में स्वीकार करने की स्थिति में नहीं हैं। ", बेंच ने कहा। 

 कलकत्ता उच्च न्यायालय ने अपहरण और हत्या के मामले में आठ आरोपियों की मौत की सजा को बदल दिया है और  दो अभियुक्तों को बरी भी कर दिया है।

न्यायमूर्ति नादिरा पाथेरा और न्यायमूर्ति देवी प्रसाद डे की पीठ ने छह लोगों की सजा को बरकरार रखा और उन्हें कठोर आजीवन कारावास की सजा सुनाई।

 यह मामला सौरव चौधरी की हत्या से संबंधित है। सुनवाई करने वाली अदालत ने उन्हें दोषी

 करार दिया था और आठ आरोपियों को मौत की सजा सुनाई। अभियोजन पक्ष का मामला था कि इस तरह की हत्या के  के बाद, अपराध को छुपाने के लिए सौरव चौधरी का मृत शरीर रेलवे लाइन पर रखा गया था और पुलिस के सामने मामले को इस तरह पेश किया गया था कि सौरव चौधरी की रेलवे दुर्घटना से मृत्यु हुई।  मृत शरीर को विभिन्न भागों में अलग किया गया था क्योंकि ट्रेन के आवागमन  ने मृत शरीर को टुकड़ों में काट दिया था। बेंच ने हालांकि  दो को छोड़कर बाकी अभियुक्तों को दोषी ठहराया।  हालांकि  मौत की सजा के संदर्भ में नकारात्मक जवाब दिया: "रिकॉर्ड की गई सामग्रियों की जांच करने पर हम पाते हैं कि संदर्भ में मामला केवल बदले की कार्रवाई का मामला है और उस दृश्य में इस मामले में, हम इसे दुर्लभतम से भी दुर्लभ  के रूप में स्वीकार करने की स्थिति में नहीं हैं। बेशक, हम मौत के संदर्भ में नकारात्मक जवाब देते हैं। "

उच्च न्यायालय ने यह भी माना कि इनमे से श्यामल कर्मकार को 30 साल की कारावास की समाप्ति तक जेल से रिहा नहीं किया जाएगा।  क्योंकि उसने फैसले के दिन ट्रायल कोर्ट से  दुर्व्यवहार किया था और कहा था कि हालांकि उसने ऐसा अपराध किया है लेकिन अदालत उसका कुछ नहीं कर सकती।


 
Next Story