Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

बीसीआई उप-समिति (3: 1) का कहना है, MP, MLA को कानून की प्रैक्टिस की अनुमति दी जानी चाहिए; प्रतिबंध पर अंतिम फैसला अगले हफ्ते के लिए टला

LiveLaw News Network
5 Feb 2018 12:37 PM GMT
बीसीआई उप-समिति (3: 1) का कहना है, MP, MLA को कानून की प्रैक्टिस  की अनुमति दी जानी चाहिए; प्रतिबंध पर अंतिम फैसला अगले हफ्ते के लिए टला
x

बीसीआई उप-समिति के चार सदस्यों में से तीन बीसी ठाकुर, आरजी शाह, डीपी ढाल का विचार है कि -सांसदों, विधायकों और एमएलसी को अभ्यास करने की इजाजत दी जा सकती है। एक सदस्य एस प्रभाकरन ने कहा कि हितों के टकराव और लाभ के पद के चलते उन्हें रोका जाए।

बार काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा गठित एक उप-समिति के चार सदस्यों में से तीन ने अपनी रिपोर्ट में निष्कर्ष निकाला है कि विधायकों-सांसदों और एमएलसी को कानूनी अभ्यास से नहीं रोका जाना चाहिए। इसके बाद, बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने इस पर व्यापक परामर्श और चर्चा के लिए "अंतिम निर्णय” एक हफ्ते के लिए स्थगित कर दिया है।

 बीसीआई के अध्यक्ष मनन कुमार मिश्रा ने कल शाम वकीलों के लिए सर्वोच्च अनुशासनिक निकाय की जनरल काउंसिल की बैठक के बाद यह घोषणा की, जिसमें चार सदस्यीय उप समिति द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट पर चर्चा हुई जिसमें कार्यालय पदाधिकारी और वकील बीसी ठाकुर, आरजी शाह, डीपी ढाल और एस प्रभाकरन शामिल थे।

"आज हमने चार सदस्यीय उप-समिति द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट पर चर्चा की जिसमेंचार सदस्यों में से तीन (बीसी ठाकुर, आरजी शाह, डीपी ढाल) का मानना ​​है कि सांसद, विधायक और एमएलसी को अभ्यास करने की अनुमति दी जा सकती है। एक सदस्य एस प्रभाकरन ने कहा कि उन्हें हितों के टकराव और लाभ के कार्यालय के आधार पर बहिष्कृत किया जाना चाहिए, “ मिश्रा ने संवाददाताओं से कहा।

"इस मामले के इस दृष्टिकोण में आम परिषद का मानना ​​है कि ये गंभीर मुद्दा है और इस मामले पर पूरी तरह से गंभीरता से विचार जरूरी है। इसलिए हमने अंतिम निर्णय को अगले हफ्ते तक स्थगित कर दिया है।

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि जिन सांसदों और विधायकों को हमने नोटिस भेजा था उनमें से कुछ ने जवाब देने के लिए आठ सप्ताह का समय मांगा था। यह वक्त भी अगले सप्ताह की अवधि तक है। इसलिए यह निर्णय लेने से पहले प्राकृतिक न्याय जरूरी है  क्योंकि वो अंत में ये नहीं कह सकते कि अंतिम निर्णय लेने से पहले उन्हें सुना नहीं गया,” मिश्रा ने कहा।

दरअसल बार काउंसिल वकील और दिल्ली के भाजपा नेता अश्विनी उपाध्याय के ज्ञापन पर विचार कर रही है जिसमें उन्होंने बीसीआई नियम का हवाला दिया है जो एक वेतनभोगी कर्मचारी को अधिवक्ता के रूप में अभ्यास करने से रोकता है।

 उपाध्याय ने तर्क दिया है कि "विधायक और सांसदों को भारत की समेकित निधि से वेतन मिलता है, इसलिए वे राज्य के कर्मचारी हैं और बीसीआई नियम 49 एक वेतनभोगी कर्मचारी को अधिवक्ता के रूप में अभ्यास करने से रोकता है।"

उन्होंने यह भी दलील दी कि भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम के तहत विधायक और सांसद सार्वजनिक कर्मचारी हैं इसलिए उन्हें अधिवक्ता के रूप में अभ्यास करने की अनुमति और अन्य सार्वजनिक कर्मचारियों को प्रतिबंधित करना मनमाना और समानता के अधिकार का उल्लंघन है।

उपाध्याय यह भी कहते हैं कि यह "पेशेवर कदाचार" के बराबर है, जब विधायक और सांसद जो सरकारी फंड से वेतन और अन्य लाभ प्राप्त करते हैं, सरकार के खिलाफ दिखाई देते हैं। "यह एक सम्माननीय पेशा है, लेकिन केवल इसे कहने से ही यह महान नहीं बनता, जब तक कि एक वकील इस पेशे के लिए पूरी तरह से समर्पित नहीं होता।

इसी तरह विधायक व सासंद से भी अपने व्यक्तिगत और वित्तीय फायदे से हटकर सार्वजनिक हितों के लिए पूरा वक्त समर्पित करने की उम्मीद है।" उन्होंने बीसीआई को एक पत्र में ये लिखा है और इसकी एक प्रति उन्होंने मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा को भी भेजी है।

उल्लेखनीय है कि अप्रैल 1996 के एक फैसले में शीर्ष अदालत ने यह माना था कि जब तक डॉक्टर मेडिकल कैरियर नहीं छोडते तो वो अदालत में वकील नहीं बन सकते। उपाध्याय ने कहा कि इसी तरह एक व्यक्ति को भी अभ्यास जारी रखने के लिए कानून बनाने वाले के रूप में अपनी नौकरी छोड़नी चाहिए। उन्होंने कहा, "विधायक व सासंद  सेअपने व्यक्तिगत हितों से पहलेसार्वजनिक हितों के लिए पूर्णकालिक सेवा देने की उम्मीद है।"

"कानून के पेशे की ताकत को भी सुरक्षित और सरंक्षित किया जाना चाहिए। इसलिए अधिवक्ताअधिनियम और बीसीआई नियमों के प्रावधानों को न्याय की सेवा के लिए स्वच्छ और कुशल बार बनाए रखने के लिए इसे सही भावना से लागू करना होगा। " उन्होंने तर्क दिया

Next Story