Top
Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

सोहराबुद्दीन मामले की सुनवाई कर रहे जज की संदिग्ध मौत की जांच हो : न्यायमूर्ति एपी शाह

LiveLaw News Network
24 Nov 2017 11:52 AM GMT
सोहराबुद्दीन मामले की सुनवाई कर रहे जज की संदिग्ध मौत की जांच हो : न्यायमूर्ति एपी शाह
x

दिल्ली हाई कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति एपी शाह ने कहा है कि सीबीआई के विशेष जज ब्रिजगोपाल हरकिशन लोया की मौत जिस संदिग्ध हालातों में हुई है उसकी जांच होनी चाहिए। लोया सोहराबुद्दीन फर्जी एनकाउंटर मामले की सुनवाई कर रहे थे जिसमें भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और गुजरात पुलिस के कई अधिकारी पर मुकदमा चल रहा है।

न्यूज़ चैनल एनडीटीवी को दिए एक इंटरव्यू में न्यायमूर्ति शाह ने कहा, “लोया के परिवार के लोग बहुत शिद्दत से यह महसूस कर रहे हैं कि उनकी मौत संदिग्ध हालात में हुई है। उनके कपड़ों पर खून के धब्बे से शुरू कर उनके पंचनामे की रिपोर्ट पर किसी और का हस्ताक्षर करना व अन्य परिस्थितिजन्य बातों को देखते हुए यह जरूरी है। इन लोगों का मानना है कि यह निष्कर्ष निकालना कि उनकी मौत हृदयगति रुक जाने से हुई, गलत है...

...मेरा मानना है कि यह बहुत जरूरी है कि न्यायपालिका के प्रमुख – या तो देश के मुख्य न्यायाधीश या बॉम्बे हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को इस मामले की पड़ताल करनी चाहिए।”

द वायर के साथ बातचीत में न्यायमूर्ति शाह ने कहा कि परिवार द्वारा लगाए गए आरोपों की जांच नहीं करने से “न्यायपालिका, विशेषकर इसके निचले कैडर को बहुत ही गलत संदेश जाएगा।” उन्होंने भ्रष्टाचार के आरोपों पर भी चिंता जताई क्योंकि आरोप लगाया जाता है कि जज लोया को 100 करोड़ रुपए घूस का प्रस्ताव दिया गया था।

न्यायमूर्ति शाह के हवाले से कहा गया, “यह जरूरी है कि हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश या सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश खुद ही इससे जुड़े दस्तावेजों की तहकीकात करें और तय करें कि जांच का आदेश दिया जाए या नहीं क्योंकि अगर इन आरोपों की जांच नहीं हुई तो इससे न्यायपालिका पर गंभीर धब्बा लग जाएगा।”

खुलासा

लोया की संदिग्ध हालात में मौत की रपट कैरेवान मैगज़ीन में पहली बार छपा जिसमें जज लोया के रिश्तेदारों के इंटरव्यूज छपे हैं – उनकी बहन अनुराधा बियानी, उनकी भतीजी नुपुर बालाप्रसाद बियानी और पिता हरकिशन के बयान हैं। इस मैगज़ीन के अनुसार, जज लोया की पत्नी शर्मिला और पुत्र अनुज को अपने जान का डर था और इसलिए वे लोग चुप रहे।

रिपोर्ट के अनुसार, जज लोया 30 नवंबर 2014 को एक सहयोगी जज जो कि मुंबई सत्र न्यायालय में जज थी, की बेटी की शादी में नागपुर गए थे। 1 दिसंबर को उनके परिवार के लोगों को फ़ोन आया कि भारी हृदयाघात के कारण जज लोया की मौत हो गई है।

पत्रकार निरंजन टाकले की खोजी रपट में कहा गया है कि दिल का दौड़ा पड़ने की कहानी में बहुत सारी विसंगतियां हैं। उनके मृत्यु के समय को लेकर विसंगतियां हैं, जज लोया का फ़ोन परिवार को सौंपने से पहले उस फ़ोन के सारे कॉल रिकॉर्ड और संदेश मिटा दिए गए थे। जज के पंचनामा पर किसी “मैयाताचा चुलातभाऊ” या चचेरे भाई ने हस्ताक्षर किया था जबकि उनके परिवार के लोगों का कहना है कि उनके परिवार में ऐसा कोई सदस्य है ही नहीं। इसके अलावा उनके परिवार के लोगों को जज लोया के कपड़ों पर खून के धब्बे थे।

एक अन्य आलेख में आरोप लगाया गया है कि न्यायमूर्ति मोहित शाह ने अमित शाह के पक्ष में फैसला देने के बदले जज लोया को 100 करोड़ रुपए का प्रस्ताव दिया था। इस आलेख में जज की बहन को उद्धृत करते हुए कहा गया है कि “न्यायमूर्ति शाह उनको देर रात को फोन करके सादे ड्रेस में मिलने को कहते थे और जितना जल्दी हो फैसला सुनाने का दबाव डालते थे और सकारात्मक फैसला सुनिश्चित करने को कहते थे।

“मेरे भाई को पक्ष में फैसला सुनाने के लिए 100 करोड़ रुपए धूस देने का प्रस्ताव् दिया गया। मोहित शाह ने खुद ही यह प्रस्ताव दिया था।”

जज लोया की मृत्यु के बाद नए जज एमबी गोसावी ने तीन दिन तक मामले की सुनवाई करने के बाद अमित शाह को बरी कर दिया। आलेख ने इस मामले की जिस तरह से सुनवाई की गई उसकी भी आलोचना की और कहा कि इससे सितम्बर 2012 में सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश का उल्लंघन हुआ है कि “शुरू से अंत तक इस मामले की सुनवाई एक ही अधिकारी करेगा।”

Next Story