Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

'उनकी शादी जाहिर तौर पर एक मृत पत्र है': सुप्रीम कोर्ट ने अनुच्छेद 142 के तहत अपनी शक्तियों के माध्यम से विवाह समाप्त किया

LiveLaw News Network
26 Oct 2021 11:26 AM GMT
उनकी शादी जाहिर तौर पर एक मृत पत्र है: सुप्रीम कोर्ट ने अनुच्छेद 142 के तहत अपनी शक्तियों के माध्यम से विवाह समाप्त किया
x

सुप्रीम कोर्ट ने संविधान के अनुच्छेद 142 के तहत अपनी शक्तियों के माध्यम से विवाह को समाप्त करते हुए कहा कि उनकी शादी स्पष्ट रूप से एक मृत पत्र है।

अदालत ने कहा कि इस मामले में पक्ष मई 2010 से अलग रह रहे हैं और एक दूसरे के खिलाफ कानूनी कार्यवाही में लगे हुए हैं।

जस्टिस सीजेआई एनवी रमाना, जस्टिस सूर्यकांत और जस्टिस हेमा कोहली की बेंच ने कहा,

"इस न्यायालय ने, पिछले निर्णयों की एक श्रृंखला में विवाह को समाप्त करने के लिए संविधान के अनुच्छेद 142 के तहत अपनी शक्तियों का प्रयोग किया है, जैसे स्नेहा पारिख बनाम मनित कुमार मामले में।"

इस मामले में, पति और सास ने कलकत्ता उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती देते हुए सर्वोच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था, जिसमें पत्नी द्वारा उनके खिलाफ शुरू की गई कार्यवाही को रद्द करने से इनकार कर दिया गया था।

कोर्ट ने मामले को सुप्रीम कोर्ट मध्यस्थता केंद्र में मध्यस्थता के लिए भेज दिया। पक्षकारों ने उनके बीच के मुद्दों को सुलझा लिया और अदालत से आपसी सहमति से उनकी शादी को समाप्त करने का अनुरोध किया।

अदालत ने आदेश में कहा,

"हम आपसी तलाक के लिए पक्षकोरों द्वारा मांगी गई राहत को देना उचित समझते हैं। अपीलकर्ता नंबर 1 और प्रतिवादी नंबर 2 को अलग हुए एक दशक से अधिक समय हो गया है और उनकी बेटी के हितों को पहले ही अपीलकर्ता संख्या 1 द्वारा 8 अक्टूबर, 2021 के अतिरिक्त हलफनामे के संदर्भ में सुरक्षित कर दिया गया है। 5 अगस्त, 2021 की पारस्परिक सहमति की शर्तें यह भी स्पष्ट करती हैं कि किसी भी पक्ष को कोई आपत्ति नहीं है यदि यह न्यायालय अनुच्छेद 142 के तहत अपनी शक्तियां के माध्यम से उनकी शादी को समाप्त कर देता है।"

Next Story