Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

सूरत की अदालत ने सिमी के सदस्य होने के आरोप में यूएपीए के तहत गिरफ्तार 122 लोगों को बरी किया

LiveLaw News Network
7 March 2021 7:38 AM GMT
सूरत की अदालत ने सिमी के सदस्य होने के आरोप में यूएपीए के तहत गिरफ्तार 122 लोगों को बरी किया
x

सूरत की एक अदालत ने दिसंबर 2001 में प्रतिबंधित संगठन स्टूडेंट्स इस्लामिक मूवमेंट ऑफ इंडिया (सिमी) के सदस्यों के रूप में यहां आयोजित एक बैठक में भाग लेने के आरोप में गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम (यूएपीए) के तहत गिरफ्तार किए गए 122 लोगों को शनिवार को बरी कर दिया।

मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ए एन दवे की अदालत ने 122 लोगों को प्रतिबंधित संगठन सिमी के सदस्य होने के आरोप से संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया। मुकदमे के लंबित रहने के दौरान पांच अन्य आरोपियों की मौत हो गई थी।

अपने आदेश में अदालत ने कहा कि अभियोजन पक्ष यह स्थापित करने के लिए "स्पष्ट, विश्वसनीय और संतोषजनक" सबूत पेश करने में विफल रहा कि आरोपी व्यक्ति सिमी के थे और प्रतिबंधित संगठन की गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए एकत्र हुए थे। अदालत ने कहा कि आरोपी व्यक्तियों को यूएपीए के तहत दोषी नहीं ठहराया जा सकता।

संगठन के कार्यकलापों को बढ़ावा देने और विस्तार करने के लिए शहर के सागरमपुरा में एक हॉल में एक बैठक आयोजित करने के लिए कथित तौर पर प्रतिबंधित संगठन सिमी के सदस्य होने के कारण यूएपीए के विभिन्न धाराओं के तहत 28 दिसंबर, 2001 को सूरत की एथलविंस पुलिस ने 127 लोगों को गिरफ्तार किया था।

केंद्र सरकार ने अपनी अधिसूचना के माध्यम से 27 सितंबर, 2001 को सिमी पर प्रतिबंध लगा दिया था।

आरोपी गुजरात के साथ-साथ तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, राजस्थान, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश और बिहार के अलग-अलग हिस्सों के थे। अपने बचाव में उन्होंने कहा कि वे सिमी से संबंधित नहीं थे और अखिल भारतीय अल्पसंख्यक शिक्षा बोर्ड के बैनर तले आयोजित एक सेमिनार में भाग लेने के लिए वहां एकत्रित हुए थे।

उन्होंने कहा कि वे शहर में धार्मिक और शैक्षिक उद्देश्यों के लिए शांतिपूर्ण तरीके से सेमिनार में हिस्सा लेने के लिए थे।

Next Story