Top
मुख्य सुर्खियां

जस्टिस कुरियन जोसेफ ने कहा, एनजेएसी मामले में अपने फैसले पर पछतावा

LiveLaw News Network
1 Jan 2020 4:15 AM GMT
जस्टिस कुरियन जोसेफ ने कहा, एनजेएसी मामले में अपने फैसले पर पछतावा
x

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश जस्टिस कुरियन जोसेफ ने कहा कि अब चीजें देखने के बाद उन्हें एनजेएसी मामले में अपने फैसले पर पछतावा है। उन्होंने कहा, "अब चीजें देखने के बाद मुझे एनजेएसी फैसले का हिस्सा होने पर अफसोस है।"

न्यायमूर्ति जोसेफ उस संविधान पीठ का हिस्सा थे, जिसने 4: 1 के बहुमत ने 99वें संविधान संशोधन को निरस्त कर दिया था, जिसने न्यायाधीशों की नियुक्ति के लिए कॉलेजियम प्रणाली को बदलने के लिए राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग (एनजेएसी) बनाया था।

वह 28 दिसंबर को कोच्चि में आयोजित अखिल भारतीय अधिवक्ता संघ (AILU) के 13 वें राष्ट्रीय सम्मेलन में, "वर्तमान युग में भारतीय संविधान के सामने चुनौतियाँ" विषय पर सेमिनार का उद्घाटन भाषण दे रहे थे।

उन्होंने कबूल किया कि राष्ट्रीय न्यायिक आयोग के मामले में उनका निर्णय एक गलती थी और उन्हें कुछ महीनों के भीतर इसका अहसास हो गया था। उन्होंने वकीलों को याद दिलाया कि संविधान की रक्षा करना उनका कर्तव्य है।

न्यायमूर्ति कुरियन जोसेफ ने कहा कि देश के सभी संवैधानिक संस्थान विश्वसनीयता संकट का सामना कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ऐसी स्थिति को दस-पंद्रह साल पहले भी नहीं समझा जा सकता था। उनके अनुसार, एकमात्र उदाहरण जहां न्यायपालिका आंतरिक आपातकाल के दौरान लोगों की अपेक्षाओं पर खरा नहीं उतर पाई और देश को इसके परिणाम भुगतने पड़े।

न्यायमूर्ति कुरियन जोसेफ ने कहा कि प्रत्येक भारतीय की पवित्र पुस्तक भारतीय संविधान थी और यह वह संविधान था जिसने देश को एक साथ जोड़ा, जो धर्मों, भाषाओं, बोलियों और जातीयताओं में विविधतापूर्ण था।

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 14 और 21 का उल्लेख करते हुए, जो उन्होंने कहा कि संविधान भारत के सभी क्षेत्र में हर व्यक्ति के लिए लागू था और संविधान ने उन लोगों का भी ध्यान रखा जो बाहर से भारत आए।

केरल के उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश और वर्तमान में केरल में स्थानीय स्वशासन संस्थानों के लोकपाल और वर्तमान में केरल के महाधिवक्ता सी सुधाकर प्रसाद ने भी अपनी बात रखी।

AILU के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ई के नारायणन ने समारोह की अध्यक्षता की। वरिष्ठ अधिवक्ता पी.वी.सुरेंद्रनाथ ने अतिथियों का स्वागत किया और अधिवक्ता एमआर श्रीलेठा ने धन्यवाद प्रस्ताव दिया।

Next Story