Top
मुख्य सुर्खियां

वकीलों की छवि कथित तौर पर खराब करने के लिए वेब सीरीज़ हसमुख का प्रसारण रोकने की याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट ने नेटफ्लिक्स से जवाब मांगा

LiveLaw News Network
28 April 2020 4:45 AM GMT
वकीलों की छवि कथित तौर पर खराब करने के लिए वेब सीरीज़ हसमुख का प्रसारण रोकने की याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट ने नेटफ्लिक्स से जवाब मांगा
x

दिल्ली हाईकोर्ट ने सोमवार को मीडिया स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म नेटफ्लिक्स और वेब-सीरीज़ 'हसमुख' के निर्माताओं से उनके शो के प्रसारण रोकने की मांग करने वाली याचिका पर जवाब मांगा। इस याचिका में कहा गया है कि उक्त शो ने वकीलों की छवि खराब की है।

उच्च न्यायालय ने वेब सीरीज़ के प्रसारण पर अंतरिम रोक लगाने की मांग पर अपना आदेश सुरक्षित रख लिया।

न्यायमूर्ति संजीव सचदेवा ने नेटफ्लिक्स और वेब-सीरीज़ के निर्माता और निर्देशक को सूट पर अपने लिखित बयान दर्ज करने के लिए कहा, जिसमें शो के प्रसारण पर स्थायी रोक लगाने की मांग की गई है।

नेटफ्लिक्स का प्रतिनिधित्व अधिवक्ता साईकृष्ण राजगोपाल ने किया, जिन्होंने इस मुकदमे का विरोध किया। मामले की अगली सुनवाई अब 7 जुलाई को होगी।

वकीलों ने भेजा मानहानि नोटिस

दिल्ली के दो वकील अभिषेक भारद्वाज और हार्दिक वशिष्ठ ने नेटफ्लिक्स इंडिया को एक कानूनी नोटिस भेजा है, जिसमें "हसमुख" नामक कॉमेडी शो की स्ट्रीमिंग में वकील समुदाय के लिए अपमानजनक बातें कही गईं हैं।

नोटिस के अनुसार, भारतीय कॉमेडियन वीर दास द्वारा किए गए शो के सीज़न 1 के एपिसोड नंबर 4 में वकीलों पर "चोर", "बदमाश" और "गुंडे" होने का आरोप लगाया गया है और यहां तक ​​कि वकीलों को "बलात्कारी" कहने की अभद्रता का भी समर्थन किया गया है।

नोटिस में कहा गया है कि इन आरोपों को कल्पना के किसी भी खंड द्वारा उचित नहीं ठहराया जा सकता और यह बहुत ही "निंदनीय" है। अधिवक्ताओं ने नेटफ्लिक्स से वकील समुदाय को बदनाम करने वाली सामग्री को तुरंत किसी भी तरीके से हटाने / नष्ट करने का आह्वान किया है।

उन्होंने आगे नेटफ्लिक्स के साथ साथ शो के कलाकार और प्रसारकों से "बिना शर्त माफी" की मांग की है। ऐसा करने में असफल रहने पर उनके खिलाफ उपयुक्त कानूनी कार्रवाई शुरू की जाएगी।

नोटिस में कहा गया कि

"उक्त कथन अत्यधिक मानहानिकारक हैं और आम जनता की नजर में कानून के पेशे के प्रति अरुचि पैदा करते हैं। कानूनी पेशे को अत्यधिक नुकसान पहुंचाने और लाखों दर्शकों की आंखों में वकीलों की छवि को नुकसान पहुंचाया गया है।"

नोटिस में यह कहा गया,

"कानूनी पेशा हमेशा न्याय के प्रशासन का एक महत्वपूर्ण अंग रहा है। कानून के पेशे के बिना, अदालतें न्याय को कुशलता से संचालित करने और प्रदान करने की स्थिति में नहीं होंगी। वेब पोर्टल पर एक ऑनलाइन टीवी श्रृंखला के माध्यम से भारत की आम जनता के बीच कानूनी पेशेवरों को इस प्रकार बदनाम करने का ऐसा कृत्य स्पष्ट रूप से मानहानि के दायरे में आता है। "

वकीलों ने कहा कि शो उनके पेशे पर दुर्भावना से "जानबूझकर हमला" किया।

Next Story