Top
Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

ट्रायल कोर्ट के रिकॉर्ड के बिना अपील का निपटारा नहीं किया जा सकता, पढ़िए सुप्रीम कोर्ट का फैसला

LiveLaw News Network
18 Oct 2019 11:45 AM GMT
ट्रायल कोर्ट के रिकॉर्ड के बिना अपील का निपटारा नहीं किया जा सकता, पढ़िए सुप्रीम कोर्ट का फैसला
x

सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में दिल्ली उच्च न्यायालय के एक फैसले को रद्द कर दिया, जिसमें हाईकोर्ट ने ट्रायल कोर्ट के रिकॉर्ड को देखे बिना एक आपराधिक अपील का निपटारा किया था।

न्यायमूर्ति एनवी रमना, न्यायमूर्ति संजीव खन्ना और न्यायमूर्ति कृष्ण मुरारी की पीठ ने दिल्ली उच्च न्यायालय के एक आदेश के खिलाफ अपील पर विचार किया, जिसमें हाईकोर्ट ने मुकदमे के ट्रायल कोर्ट के रिकॉर्ड के बिना आईपीसी 498 ए और आईपीसी 304 के तहत एक व्यक्ति पर लगाए गए मुकदमे में दोषसिद्धि और सजा को बरकरार रखा। ट्रायल कोर्ट का रिकॉर्ड अपील के लंबित रहने के दौरान खो गया था।

अपील [सविता बनाम दिल्ली राज्य] में उठाए गए मुद्दों में से एक यह था कि क्या मूल रिकॉर्ड के अभाव में आपराधिक अपील का निपटारा करने का उच्च न्यायालय का आदेश कानून की नजर में टिकाऊ हो सकता है?

इस संबंध में पीठ ने देखा,

"यह विवाद नहीं है कि उच्च न्यायालय ने अपीलकर्ता द्वारा ट्रायल कोर्ट के रिकॉर्ड के बिना दायर की गई अपील का निपटारा किया है, जो रिकॉर्ड अपील के लंबित रहने के दौरान दौरान खो गया था। घटनाक्रम से यह भी संकेत मिलता है कि ट्रायल कोर्ट के रिकॉर्ड को फिर से बनाने के लिए राज्य द्वारा कुछ प्रयास किए गए थे लेकिन रिकॉर्ड का पुनर्निर्माण पूरा नहीं हो सका। हालांकि, प्रतिवादी-राज्य के लिए वरिष्ठ वकील ने यह प्रस्तुत किया कि कुछ रिकॉर्ड उपलब्ध हैं।


दोनों पक्षों के वकीलों की दलील सुनने और हमारे सामने रखी गई सामग्री को देखने के बाद, हम इस विचार पर पहुंचे हैं कि अपीलकर्ता-अभियुक्त द्वारा ट्रायल कोर्ट के रिकॉर्ड के बिना दायर अपील का निपटारा करना कानून की नज़र में टिकाऊ नहीं है।"

पीठ ने इस मामले को वापस उच्च न्यायालय में भेज दिया ताकि सुनवाई के रिकॉर्ड के पुनर्निर्माण के बाद इस अपील की सुनवाई फिर से हो सके। इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए कि अपीलकर्ता ने पहले से ही 10 साल के कठोर कारावास की सजा के लगभग 27 महीने कारागार में गुज़ार लिए हैं, पीठ ने कहा कि यह उसे जमानत देने के लिए यह एक उपयुक्त मामला है।

वरिष्ठ अधिवक्ता सिद्धार्थ लूथरा अपने सहयोगी अधिवक्ता संदीप सुधाकर देशमुख और वरिष्ठ अधिवक्ता सोनिया माथुर अपने सहयोगी अधिवक्ता बीवी। बलराम दास, सीमा बेंगानी, विकास बंसल और अनस जैद के साथ पार्टियों के लिए पेश हुए।

फैसले की कॉपी डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें



Next Story