Top
मुख्य सुर्खियां

शादी से इनकार के बावजूद सहमति से यौन संबंध बनाना बलात्कार नहीं : मध्य प्रदेश हाई कोर्ट [आर्डर पढ़े]

Live Law Hindi
26 July 2019 3:57 PM GMT
शादी से इनकार के बावजूद सहमति से यौन संबंध बनाना बलात्कार नहीं : मध्य प्रदेश हाई कोर्ट [आर्डर पढ़े]
x

मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय ने हाल ही में एक आदमी के खिलाफ 'बलात्कार' का मामला इस आधार पर खारिज कर दिया है कि 'पीड़िता' द्वारा यौन संबंध बनाने की सहमति ये अच्छी तरह से जानने के बाद भी दी गई थी कि आरोपी उससे शादी नहीं करेगा।

"शिकायतकर्ता स्वयं आरोपी के साथ बने रहना चाहती थी"

अदालत ने यह भी पाया कि शिकायतकर्ता 'आरोपी' के साथ 'गहराई से प्यार' कर रही थी और उसके साथ बने रहना चाहती थी। इसलिए शिकायतकर्ता अब अपनी बात से पलट नहीं सकती है और यह दावा नहीं कर सकती कि ये सहमति तथ्यों की गलत धारणा पर आधारित थी, न्यायमूर्ति एस. के. अवस्थी ने कहा।

इस प्रकार ये निष्कर्ष निकालने के लिए अदालत ने Cr.PC की धारा 164 के तहत दर्ज अभियोजन पक्ष के बयान पर ध्यान दिया और यह देखा कि वही स्पष्ट रूप से यह इंगित करता है कि आवेदक द्वारा उससे शादी करने से इनकार करने के बाद भी अभियोजन पक्ष ने उसके साथ संबंध जारी रखे थे।

"यह मामला शादी के झूठे वादे से जुड़ा हुआ नहीं"
ये वह मामला नहीं है कि शादी के झूठे वादे के कारण शिकायतकर्ता द्वारा यौन संबंधों के लिए सहमति दी गई थी बल्कि ये सहमति इसलिए दी गई थी क्योंकि शिकायतकर्ता को आवेदक से प्यार था और वह उसका साथ संबंध बनाए रखना चाहती थी, अदालत ने कहा।

"यौन कार्य हेतु शादी का वादा नहीं तो बलात्कार भी नहीं"

अदालत ने हाल ही में सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले [डॉ ध्रुवराम मुरलीधर सोनार बनाम महाराष्ट्र राज्य] का उल्लेख किया जिसमें यह कहा गया था कि यदि किसी व्यक्ति ने किसी महिला को यौन कार्य हेतु आकर्षित करने के लिए शादी करने का वादा नहीं किया है तो इस तरह का कार्य बलात्कार के समान नहीं होगा।

उसी मामले का उल्लेख करते हुए पीठ ने कहा:

"ऐसे मामलों में कोर्ट को बहुत सावधानी से यह जांचना चाहिए कि क्या शिकायतकर्ता वास्तव में पीड़ित से शादी करना चाहता था या उसके गलत इरादे थे और उसने केवल अपनी वासना को संतुष्ट करने के लिए इस आशय का झूठा वादा किया था क्योंकि ये बाद में धोखाधड़ी के दायरे में आता है। एक वादा पूरा करने और झूठे वादे को पूरा न करने के बीच एक अंतर भी है। यदि अभियुक्त ने अभियोजन पक्ष को यौन कृत्यों में लिप्त होने के लिए आकर्षित करने के एकमात्र इरादे के साथ वादा नहीं किया है, तो इस तरह का कार्य बलात्कार करने के समान नहीं होगा। वहां एक मामला हो सकता है जहां अभियोजक अपने प्यार और अभियुक्त के प्रति जुनून के कारण संभोग करने के लिए सहमत है और पूरी तरह से अभियुक्त द्वारा बनाई गई ग़लतफ़हमी के कारण नहीं है या जहां कोई अभियुक्त, परिस्थितियों के कारण जो उसके नियंत्रण से बाहर थीं, हर इरादे के बावजूद उससे शादी करने में असमर्थ रहा। ऐसे मामलों के साथ अलग तरह से व्यवहार किया जाना चाहिए। यदि शिकायतकर्ता का कोई भी गलत इरादा था और यदि उसके पास ऐसा मकसद था तो यह बलात्कार का एक स्पष्ट मामला है। दोनों पक्षों के बीच स्वीकार किए गए शारीरिक संबंध आईपीसी की धारा 376 के तहत अपराध नहीं होंगे।"


Next Story