Top
Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

कांट्रेक्ट ( नियोजित) शिक्षक नियमित शिक्षकों की तरह समान वेतन के हकदार नहीं : सुप्रीम कोर्ट ने पटना हाई कोर्ट के फैसले को रद्द किया [निर्णय पढ़े]

Live Law Hindi
11 May 2019 8:20 AM GMT
कांट्रेक्ट ( नियोजित) शिक्षक नियमित शिक्षकों की तरह समान वेतन के हकदार नहीं : सुप्रीम कोर्ट ने पटना हाई कोर्ट के फैसले को रद्द किया [निर्णय पढ़े]
x

हालांकि SC ने यह सुझाव दिया कि राज्य कम से कम समिति द्वारा सुझाए गए स्तर पर नियोजित शिक्षकों के वेतनमान को बढ़ाने पर विचार कर सकता है।

SC ने पटना उच्च न्यायालय फैसले को किया रद्द
बिहार के लगभग 4 लाख नियाजित शिक्षकों (संविदा शिक्षकों) को झटका देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने पटना उच्च न्यायालय के उस फैसले को रद्द कर दिया है, जिसमें कहा गया था कि नियोजित शिक्षक भी नियमित स्थायी शिक्षकों के बराबर वेतन के हकदार हैं।

"बढेगा राज्य के वित्तीय संसाधनों पर दबाव"
राज्य द्वारा दायर अपील को अनुमति देते हुए न्यायमूर्ति अभय मनोहर सपरे और न्यायमूर्ति उदय उमेश ललित की पीठ ने टिप्पणी करते हुए कहा कि ऐसी स्थिति जबरदस्त असंतुलन पैदा कर सकती है और राज्य के वित्तीय संसाधनों पर भारी दबाव पैदा कर सकती है।

हालांकि शुक्रवार को दिए गए इस फैसले में अदालत ने राज्य को यह सुझाव दिया कि वह कम से कम समिति द्वारा सुझाए गए स्तर तक नियोजित शिक्षकों के वेतनमान को बढ़ाने पर विचार कर सकती है।
अदालत ने कहा है कि नियोजित शिक्षकों को दिया जाने वाला वेतन ढांचा निश्चित रूप से सरकारी शिक्षकों को दिए जाने वाले वेतनमान से कम है लेकिन सरकारी शिक्षकों की संख्या नियोजित शिक्षकों की संख्या से काफी कम है। यह भी देखा गया है कि नियोजित शिक्षकों की भर्ती का तरीका सरकारी शिक्षकों की तुलना में पूरी तरह से अलग है। कोर्ट ने कहा:

"पंचायती राज संस्थानों के चयन की प्रक्रिया को समाप्त करने और राज्य शिक्षकों के कैडर को मारने या गायब करने वाले कैडर बनाने की कोशिश शिक्षा के प्रसार को प्राप्त करने की एक ही यांत्रिकी का हिस्सा थे। ये मुद्दे सभी एक एकीकृत नीति का हिस्सा थे और अगर न्यायिक हस्तक्षेप की प्रक्रिया द्वारा नियोजित शिक्षकों को समान वेतन और भत्ता उपलब्ध कराने के लिए कोई निर्देश जारी किए जाते हैं तो यह जबरदस्त असंतुलन पैदा कर सकता है, और राज्य के वित्तीय संसाधनों पर भारी दबाव पैदा कर सकता है। "

"राज्य, नियोजित शिक्षकों के वेतनमान को बढ़ाने पर कर सकता है विचार"
यह कहते हुए कि शिक्षकों को शालीन भत्तों का हकदार होना चाहिए, पीठ ने कहा कि राज्य समिति द्वारा सुझाए गए किसी भी परीक्षण या परीक्षा पर जोर दिए बिना समिति द्वारा सुझाए गए स्तर पर नियोजित शिक्षकों के वेतनमान को बढ़ाने पर विचार कर सकती है। इस तरह के परीक्षण या परीक्षा को पास करने वालों को और भी बेहतर वेतनमान दिए जा सकते हैं।

Next Story