Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

'पत्नी' ने अपने मोबाइल उपयोग को प्रतिबंधित करने वाले एक असामान्य आदेश को सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती, पढ़िए सुप्रीम कोर्ट का आदेश

LiveLaw News Network
19 Aug 2019 2:07 AM GMT
पत्नी ने अपने मोबाइल उपयोग को प्रतिबंधित करने वाले एक असामान्य आदेश को सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती, पढ़िए सुप्रीम कोर्ट का आदेश
x

वैवाहिक संबंधों में विवाद असामान्य नहीं हैं, लेकिन इस तरह के विवादों से जुड़े मुकदमों में न्यायालयों द्वारा पारित कुछ आदेश असामान्य कहे जा सकते हैं। झारखंड हाईकोर्ट के एक ऐसे ही असामान्य फैसले पर सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस केएम जोसेफ की बेंच ने एक विशेष अवकाश याचिका पर सुनवाई की। झारखंड हाईकोर्ट द्वारा एक अग्रिम जमानत अर्जी में इस तरह के 'असामान्य' आदेश को लागू किया गया।

अपनी पत्नी द्वारा दायर एक आपराधिक मामले में गिरफ्तारी को स्वीकार करते हुए एक व्यक्ति ने उच्च न्यायालय में अग्रिम जमानत की मांग की थी। उच्च न्यायालय ने दंपति को न्यायालय समक्ष उपस्थित होने के लिए कहा और उन्हें मामलों को निपटाने के लिए राजी किया।

'सहमति आदेश 'में लगाई गई शर्तों में से एक शर्त यह थी कि पति अपनी पत्नी को उसके भाइयों और बहनों से रोजाना अधिकतम एक घंटे तक बात करने के लिए मोबाइल फोन प्रदान करेगा और इसके बाद पत्नी अपने साथ कोई व्यक्तिगत / अलग मोबाइल नहीं रखेगी।

मोबाइल का उपयोग करने की समयावधि को सीमित करने वाले इस इस आदेश से दुखी होकर, महिला ने सुप्रीम कोर्ट से गुहार लगाई कि वास्तव में उसने ऐसी कोई सहमति नहीं दी थी। पीठ ने कहा: "शर्तों को पढ़ने पर, ऐसा प्रतीत होता है कि इरादा पत्नी और पति दोनों को उनके संबंधित माता-पिता द्वारा वैवाहिक मामलों में हस्तक्षेप करने से रोकना है। सामग्री क्या है, यह एक सहमति आदेश है जो दर्ज किया गया है। "

पीठ ने विशेष अवकाश याचिका को खारिज कर दिया लेकिन महिला से कहा कि वह उच्च न्यायालय जाने के लिए स्वतंत्रत है, जहां वह यह दावा कर सकती है कि उसने आदेश के इस हिस्से के लिए अपनी सहमति नहीं दी थी।


Next Story