Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

' NRC लागू नहीं तो NPR व्यर्थ का अभ्यास' : सुप्रीम कोर्ट में CAA के साथ-साथ NPR नोटिफिकेशन को भी चुनौती

LiveLaw News Network
14 Jan 2020 2:30 AM GMT
 NRC लागू नहीं तो NPR व्यर्थ का अभ्यास : सुप्रीम कोर्ट में  CAA के साथ-साथ NPR नोटिफिकेशन को भी चुनौती
x

 एक ओर सुप्रीम कोर्ट ने नागरिकता संशोधन अधिनियम 2019 के खिलाफ चुनौती पर विचार करने के लिए अगला सप्ताह निर्धारित किया है तो वहीं राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) के लिए अधिसूचना को चुनौती देने वाली एक याचिका शीर्ष अदालत में दायर की गई है।

'माइनॉरिटी फ्रंट' नाम के एक एनजीओ द्वारा दायर याचिका में कहा गया है कि एनपीआर, नेशनल रजिस्टर ऑफ़ सिटीजंस (NRC) के लिए पहला कदम है। चूंकि प्रधानमंत्री पहले ही 22 दिसंबर को अपने भाषण में NRC के साथ आगे ना बढ़ने के लिए दिए गए फैसले की घोषणा कर चुके हैं तो NPR की तैयारी "राष्ट्र के समय, ऊर्जा और मूल्यवान संसाधनों की बर्बादी" के अलावा कुछ भी नहीं है।

याचिका में आगे कहा गया है,

"यह प्रस्तुत किया गया है कि मीडिया रिपोर्टों के अनुसार राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) तैयार करने के लिए 3,941.35 करोड़ रुपये की राशि का उपयोग करने की मंजूरी दी गई है, जो राशि बर्बाद हो जाएगी क्योंकि राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर की तैयारी एक अलग अभ्यास नहीं है और NRC के बाद की तैयारी से आंतरिक रूप से जुड़ा हुआ है। यह नोट करना प्रासंगिक है कि वर्तमान आर्थिक परिदृश्य में, जहां आर्थिक विकास में तेज गिरावट आई है, NPR की तैयारी के लिए स्वीकृत पूरी राशि के रूप में नाले में बह जाएगी क्योंकि सरकार एक राष्ट्रव्यापी NRC तैयार करने की योजना नहीं बना रही है।"

याचिका में कहा गया है कि समान नियम एनपीआर और एनआरसी को नियंत्रित करते हैं - नागरिकता (नागरिकों का पंजीकरण और राष्ट्रीय पहचान पत्र जारी करना) नियम, 2003। नियम 4 (3) और 4 (4) के अनुसार एनपीआर में एकत्रित डेटा है 'संदिग्ध नागरिकों' को चिह्नित करने और NRC तैयार करने के लिए उपयोग किया जाता है।

इसलिए, याचिकाकर्ताओं का तर्क है कि यह स्पष्ट है कि "जनसंख्या रजिस्टर की तैयारी न केवल पहला कदम है बल्कि एनआरसी की तैयारी के लिए एक पूर्व शर्त है"।

दरअसल 31 जुलाई, 2019 को, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने अप्रैल 2020 से सितंबर 2020 के बीच NPR तैयार करने के लिए अधिसूचना जारी की थी। इस अधिसूचना ने असम राज्य को छूट दी है। याचिकाकर्ताओं के अनुसार, यह NPR और प्रस्तावित NRC के बीच की कड़ी को दर्शाने वाला एक अन्य कारक है, क्योंकि असम में पहले से ही NRC को अंतिम रूप दिया जा चुका है।

यह कहा गया है कि CAA को अलग से नहीं देखा जा सकता है और इसे NPR तैयार करने के लिए सरकार की अधिसूचना के साथ "कालानुक्रमिक" रूप से देखा जाना चाहिए, जिसके बाद NRC को अंतिम रूप दिया जाएगा।

याचिका में CAA को उसी तरह के आधार पर चुनौती दी गई है जैसे कि सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई विभिन्न अन्य याचिकाओं में कहा गया है कि अधिनियम में प्रवासियों के धर्म-आधारित बहिष्कार से धार्मिक भेदभाव, संविधान के अनुच्छेद 14 का उल्लंघन होता है। यह भी आग्रह किया गया है कि यह अधिनियम भारतीय संविधान के धर्मनिरपेक्ष चरित्र का उल्लंघन करके नागरिकता को धर्म से जोड़ता है।

याचिका में विदेशी अधिनियम और पासपोर्ट (भारत में प्रवेश) नियम 1950 के तहत 2015 और 2016 की अधिसूचनाओं को भी चुनौती दी गई है, जिसमें पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से गैर-मुस्लिम प्रवासियों के रहने को नियमित किया गया है जो अपने देश में धार्मिक उत्पीड़न के बाद 31 दिसंबर, 2014 से पहले भारत में प्रवेश कर गए थे।

"अधिनियमित कानून को कानून के अन्य प्रावधानों विशेष रूप से नागरिकता (नागरिकों के पंजीकरण और राष्ट्रीय पहचान पत्र जारी करना) नियम, 2003 के साथ बड़े पैमाने पर पढ़ा जाना चाहिए, जो एक राष्ट्रीय रजिस्टर की तैयारी के माध्यम भारतीय नागरिकों में से ' संदिग्ध' अवैध प्रवासियों की पहचान के लिए प्रदान करते हैं।

यह प्रस्तुत किया गया है कि इस कानून और नियम 2003 को साथ पढ़ने से कुछ समुदायों को अलग- थलग करने के लिए एक स्पष्ट योजना का पता चलता है और उन्हें इस कानून के लाभ से इनकार किया गया है जो कि अस्वीकार्य है,"वकील एजाज मक़बूल के माध्यम से दायर याचिका में कहा गया है।

याचिका में कहा गया है कि CAA-NPR-NRC की तिकड़ी ने देश के गरीब और हाशिए पर रहने वाले लोगों, विशेषकर मुसलमानों पर पड़ने वाले प्रभाव की आशंका के चलते देश में भारी अशांति पैदा की है। याचिका में नागरिकता अधिनियम 1955 की धारा 3 को भी चुनौती दी गई है, क्योंकि यह जुलाई 1987 के बाद पैदा हुए लोगों के लिए नागरिकता के लिए शर्तों का परिचय देती है।

"नागरिकता अधिनियम 1955 के लागू प्रावधानों का संचयी प्रभाव 1 जुलाई 1987 के बाद भारत में पैदा हुए बच्चों को राष्ट्रीय स्तर पर मनमाने ढंग से वंचित करने के लिए है, " याचिका में कहा गया है। याचिका वकील एजाज मक़बूल, आकृति चौबे, कुंवर आदित्य सिंह, मुहम्मद ईसा एम हकीम और ऐश्वर्या सरकार ने तैयार की है।


याचिका डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें




Next Story