Top
ताजा खबरें

तलाक केस : झूठी शिकायतें दर्ज करके किसी परिवार को लंबे समय तक परेशान करना मानसिक क्रूरता, पढ़िए हाईकोर्ट का फैसला

LiveLaw News Network
8 Sep 2019 5:52 AM GMT
तलाक केस : झूठी शिकायतें दर्ज करके किसी परिवार को लंबे समय तक परेशान करना मानसिक क्रूरता, पढ़िए हाईकोर्ट का फैसला
x

झूठी शिकायतें दर्ज करके एक परिवार को लंबे समय तक परेशान करना 'मानसिक क्रूरता' है। एक व्यक्ति की तलाक अर्ज़ी पर फैसला देते हुए, केरल उच्च न्यायालय ने यह पाया कि एक पति और उसके परिवार को लंबे समय तक परेशान करने के लिए झूठी शिकायतें दर्ज करना, 'मानसिक क्रूरता' कारित करना होगा। अदालत ने इस व्यक्ति का उसकी पत्नी से तलाक मंज़ूर कर लिया।

इस मामले में उच्च न्यायालय ने यह उल्लेख किया कि पत्नी ने मजिस्ट्रेट अदालत के समक्ष यह शिकायत की थी कि पति और उसके माता-पिता ने उसकी थली चेन (आभूषण) को जबरदस्ती उससे ले लिया था और उसके अन्य सोने के गहने चोरी कर लिए थे और उनके द्वारा दहेज की मांग भी की गई थी। उक्त शिकायत को इस आधार पर खारिज कर दिया गया था कि वह शिकायत झूठी थी। अदालत ने यह भी कहा कि, तलाक के मामले में, पत्नी के पास कोई मामला नहीं था कि उसके किसी भी सोने के गहने को उसके ससुराल वालों द्वारा ले लिया गया हो। फैमिली कोर्ट ने पति को तलाक देने से इनकार कर दिया था।

इस संदर्भ में, न्यायमूर्ति ए. एम. शैफिक और न्यायमूर्ति एन. अनिल कुमार की पीठ ने अवलोकन किया

"यह स्पष्ट है कि प्रतिवादी/पत्नी, याचिकाकर्ता/पति और उसके माता-पिता को परेशान कर रही थी और वह उनके खिलाफ झूठी शिकायतें दर्ज करने की हद तक चली गई थी। हालांकि इस तरह के एक पहलू को अदालत के सामने नहीं लाया गया था, क्योंकि मूल याचिका उनके खिलाफ मामला दर्ज होने से पहले दायर की गई थी। हालांकि बाद की घटनाएं जो रिकॉर्ड का हिस्सा हैं, स्पष्ट रूप से याचिकाकर्ता और उसके माता-पिता के खिलाफ उसके (पत्नी) रवैये को साबित करती हैं। पूरा मामला उन्हें परेशान करने के लिए स्थापित किया गया था और इसलिए, याचिकाकर्ता/पति के इस तर्क को, कि उसकी पत्नी उसके और उसके माता-पिता के साथ बुरा व्यवहार कर रही थी, मानना होगा।

हम मानते हैं कि याचिकाकर्ता, तलाक पाने का हकदार था और न्यायालय ने उचित परिप्रेक्ष्य में साक्ष्य की सराहना करने में गंभीर त्रुटि की। निचली अदालत को क्रूरता साबित नहीं होने के निर्णय पर पहुंचने से पहले रिकॉर्ड पर मौजूद पूरी सामग्री पर विचार करना चाहिए था। यह तय कानून है कि 'क्रूरता' में 'मानसिक क्रूरता' और परिवार पर मानसिक रूप से क्रूरता करने के लिए झूठी शिकायतें दर्ज करके काफी समय तक परेशान करना भी शामिल है।"

पीठ ने यह भी देखा कि चूंकि शादी पूर्ण रूप से टूट चुकी है और अब दोनों के बीच किसी प्रकार के पुनर्मिलन और युग्मित होने का कोई मौका शेष नहीं है, और यह तथ्य कि पति और उसके परिवार के सदस्यों को पत्नी के हाथों क्रूरता का सामना करना पड़ा, यह एक फिट मामला है जिसमें पति के पक्ष में तलाक दिया जा सकता है।



Next Story