Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

वरिष्ठ अधिवक्ता राम जेठमलानी का निधन, वकालत के एक युग का अंत

LiveLaw News Network
8 Sep 2019 4:10 AM GMT
वरिष्ठ अधिवक्ता राम जेठमलानी का निधन, वकालत के एक युग का अंत
x

वकालत की दुनिया में अपनी मेहनत और लगन से ऊंचा मुकाम हासिल करने वाले वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी का निधन हो गया। 95 वर्षीय वरिष्ठ अधिवक्ता राम जेठमलानी का रविवार सुबह निधन हुआ। उन्होंने भारत के केंद्रीय कानून मंत्री और बार काउंसिल ऑफ इंडिया के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया।

जेठमलानी ने अपने करियर में कई हाई प्रोफाइल आपराधिक मामलों में पैरवी की और उन्हें आपराधिक कानून के विशेषज्ञ के रूप में देखा जाता था।

उनका जन्म 14 सितंबर, 1923 को वर्तमान पाकिस्तान में हुआ था। उन्होंने 17 साल की उम्र में कानून की डिग्री प्राप्त की। विभाजन के बाद, वह कानूनी पेशे को जारी रखने के लिए मुंबई चले आए। उन्होंने 1959 में सनसनीखेज नानावटी मामले में अपनी उपस्थिति के साथ सुर्खियों बटोरी। इसके बाद, उन्होंने आपराधिक कानून के क्षेत्र में खुद का नाम बनाया।

वे हाई प्रोफाइल मामलों में शामिल रहे। वे इंदिरा गांधी हत्या मामले में बचाव पक्ष के वकील थे, इसके अलावा उनके बड़े केस में हर्षद मेहता स्टॉक स्कैम केस, केतन पारेख केस, हवाला केस में लालकृष्ण आडवाणी का बचाव, असंगत संपत्ति मामले में जयललिता का बचाव, 2 जी घोटाला मुकदमे में कनिमोझी का बचाव, मनु शर्मा का बचाव शामिल है। जेसिका लाल का मामला, चारा घोटाला मामले में लालू प्रसाद यादव का बचाव भी उन्होंने किया।

2017 में, उन्होंने कानूनी पेशे से सेवानिवृत्ति की घोषणा की। तब LiveLaw से बात करते हुए, उन्होंने कहा था;

"मैं अपने जीवन में कुछ महत्वपूर्ण काम करना चाहता हूं। मैं भारत को भ्रष्ट राजनेताओं से बचाना चाहता हूं। मैं किसी भी वकील को कानूनी सहायता के लिए तैयार रहूंगा जो मेरे पास आता है, मैं भ्रष्ट लोगों के खिलाफ लड़ना चाहता हूं"।

जेठमलानी 1988 में राज्यसभा के सदस्य बने। तब से, वे देश के राजनीतिक मोर्चे में सक्रिय रूप से शामिल रहे, जिसके बाद वे 1996 में वे अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में केंद्रीय कानून, न्याय और कंपनी मामलों के मंत्री बने। अटल बिहारी वाजपेयी के दूसरे कार्यकाल के दौरान, उन्हें 1998 में केंद्रीय शहरी मामलों और रोजगार मंत्री का पोर्टफोलियो दिया गया था, लेकिन 13 अक्टूबर 1999 को, उन्हें फिर से केंद्रीय कानून, न्याय और कंपनी मामलों के मंत्री के रूप में शपथ दिलाई गई।

हालांकि, उन्हें भारत के तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश, एएस आनंद और भारत के अटॉर्नी जनरल, श्री सोली सोराबजी के साथ मतभेदों के बाद प्रधान मंत्री द्वारा इस्तीफा देने के लिए कहा गया था। उन्हें तत्कालीन गृह मंत्री, लाल कृष्ण आडवाणी के आग्रह पर मंत्रिमंडल में शामिल किया गया था।

उनके परिवार में उनके दो बेटे और दो बेटियां हैं। उनके बेटे महेश जेठमलानी जाने-माने वकील हैं। उनकी बेटी रानी जेठमलानी, जो एक वकील भी थीं, उनका निधन 2011 में हुआ।

राम जेठमनाली भारत में सबसे अधिक वेतन पाने वाले वकील के रूप में जाने जाते थे, उन्होंने वकालत में पेशेवर रवैये को गहरा किया था। जब क्लाइंट को बचाने की बात आती तो उन्हें किसी का डर नहीं होता था। अपनी तात्कालिक टिप्पणियों और वन-लाइनर्स के लिए मशहूर थे। एक साक्षात्कार में याद करते हुए, उनके शब्द तब भी गूंजने लगते हैं जब वह उन्होंने कहा था, 'एक वकील को उसकी राय के लिए भुगतान नहीं किया जाता है, बल्कि अपने क्लाइंट के मामले को प्रभावी और ईमानदारी से पेश करने के लिए उसे भुगतान किया जाता है।'

जेठमलानी लाइव लॉ के शुभचिंतक और समर्थक थे। सितंबर 2017 में, उन्होंने लाइव लॉ की हिंदी साइट का उद्घाटन किया था।

Next Story