Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

दिल्ली CAA प्रोटेस्ट : कथित हिंसा में शामिल 15 लोगों को मिली ज़मानत

LiveLaw News Network
9 Jan 2020 2:01 PM GMT
दिल्ली CAA प्रोटेस्ट :  कथित हिंसा में शामिल 15 लोगों को मिली ज़मानत
x

दिल्ली की एक अदालत ने गुरुवार को CAA विरोध प्रदर्शन के दौरान हिंसा के आरोपों में 21 दिसंबर, 2019 को दरियागंज पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए 15 लोगों की जमानत अर्जी मंजूर कर ली।

तीस हजारी कोर्ट के अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश डॉ कामिनी लाऊ ने आदेश दिया कि ज़मानत के लिए हर अभियुक्त 25,000 रुपये के बांड भरेंगा और उसी राशि की ज़मानत पेश करेगा। सभी 15 आरोपियों को अगले आदेश तक हर महीने के आखिरी शनिवार को स्टेशन हाउस ऑफिसर के सामने पेश होने और अपने पासपोर्ट, यदि कोई हो, को सरेंडर करने के लिए कहा गया है। उन्हें गवाहों को प्रभावित नहीं करने के लिए भी कहा गया है।

इससे पहले, तीस हजारी मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट ने 23 दिसंबर, 2019 को उनकी जमानत अर्जी खारिज कर दी थी।

दरियागंज पुलिस स्टेशन द्वारा दर्ज की गई एफआईआर में भारतीय दंड संहिता की धारा 147, 148, 149, 186, 353, 332, 323 और 436 का उल्लेख है और सार्वजनिक संपत्ति के नुकसान की रोकथाम अधिनियम
की धारा 3 और 4 शामिल हैं।

गिरफ्तार किए गए व्यक्तियों की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता रेबेका एम जॉन ने कहा कि धारा 436 आईपीसी को लागू करने के लिए कोई आधार नहीं है, क्योंकि प्राथमिकी के आरोपों के अनुसार किसी भी निवास स्थान या पूजा स्थल पर आग नहीं लगी थी। सार्वजनिक संपत्ति का भी विनाश नहीं हुआ। एफआईआर एक कार को आग लगाने के आरोप पर आधारित है।

उन्होंने यह भी बताया कि आरोपी 19 दिनों से जेल में हैं। फिर उन्होंने प्रस्तुत किया कि अन्य दो गैर-जमानती अपराध (Ss 353, 332 IPC) ने क्रमशः 2 और 3 वर्ष की शर्तें निर्धारित की हैं। इसलिए, अर्नेश कुमार मामले में दिए गए सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के अनुसार अनिवार्य गिरफ्तारी की आवश्यकता नहीं थी, जिसमें कहा गया था कि 7 साल से कम कारावास के अपराध में गिरफ्तारी केवल असाधारण परिस्थितियों में की जानी चाहिए।

उन्होंने ज़मानत पर अपनी रिहाई के लिए दबाव डाला कि हिरासत में लिए गए व्यक्ति कम आय वाले हैं और इसका कोई तरीका नहीं है कि वे 'गवाहों को प्रभावित' कर सकें या 'सबूतों के साथ छेड़छाड़' कर सकें।

सरकारी वकील, पंकज भाटिया ने ज़मानत आवेदनों का विरोध करते हुए कहा कि इस कृत्य से पुलिसकर्मियों को गंभीर चोटें आई हैं और संपत्तियों को नुकसान पहुंचा है।

न्यायाधीश लाऊ ने मामले के संबंध में मेडिको-कानूनी प्रमाणपत्र और सीसीटीवी फुटेज को तलब किया था। उन्होंने मौखिक रूप से यह भी कहा था कि हर एक को विरोध करने का अधिकार है लेकिन संविधान के मापदंडों के भीतर।

Next Story