Top
ताजा खबरें

COFEPOSA : अगर निरोधी पहले से ही न्यायिक हिरासत में है तो भी निरोधक हिरासत के आदेश दिए जा सकते हैं : सुप्रीम कोर्ट

LiveLaw News Network
23 Nov 2019 10:45 AM GMT
COFEPOSA : अगर निरोधी पहले से ही न्यायिक हिरासत में है तो भी निरोधक हिरासत के आदेश दिए जा सकते हैं : सुप्रीम कोर्ट
x

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि अगर कोई व्यक्ति न्यायिक हिरासत में है तो भी उसे COFEPOSA जैसे निरोधक कानून के तहत हिरासत में लिया जा सकता है।

दिल्ली उच्च न्यायालय के उस आदेश को रद्द करते हुए, जिसमें विदेशी मुद्रा संरक्षण और तस्करी गतिविधियों की रोकथाम अधिनियम, 1974 [COFEPOSA], तहत कुछ लोगों की हिरासत को रद्द कर दिया था, न्यायमूर्ति उदय उमेश ललित, न्यायमूर्ति इंदिरा बनर्जी और न्यायमूर्ति एमआर शाह की पीठ ने कहा कि ऐसी हिरासत वैध है बशर्ते कि निरोधक प्राधिकरण द्वारा विवेक का इस्तेमाल किया गया हो:

(i) हिरासत में मौजूद किसी व्यक्ति के खिलाफ वैध रूप से हिरासत का आदेश पारित किया जा सकता है और इस उद्देश्य के लिए यह आवश्यक है कि हिरासत का आधार यह दिखाना चाहिए कि क्या प्राधिकरण को इस तथ्य के बारे में पता था कि निरोधी पहले से ही हिरासत में है;

(ii) कि निरोधक प्राधिकरण को और अधिक संतुष्ट होना चाहिए कि निरोधी के हिरासत से रिहा होने की संभावना है और हिरासत की गतिविधियों की प्रकृति से संकेत मिलता है कि अगर वह रिहा हो जाता है तो उसके इस तरह की पूर्वाग्रही गतिविधियों में लिप्त होने की संभावना है और इसलिए, उसे इस तरह की गतिविधियों में संलग्न होने से रोकने के लिए उसे हिरासत में लेना आवश्यक है; तथा

(iii) निरोधक प्राधिकरण की संतुष्टि कि निरोधी पहले से ही हिरासत में है और उसके जमानत पर रिहा होने की संभावना है और रिहा होने पर उसके निरोधक प्राधिकरण की व्यक्तिपरक संतुष्टि के साथ उसी पूर्वाग्रही गतिविधियों में लिप्त होने की संभावना है।

इस मामले में [भारत संघ बनाम अंकित अशोक जालान], रेखा बनाम तमिलनाडु राज्य (2011) 5 SCC 244 के फैसले का हवाला दिया गया जिसमें कहा गया था कि यदि कोई जमानत अर्जी लंबित नहीं है और हिरासत में व्यक्ति की जमानत पर रिहा होने की संभावन नहीं है तो हिरासत का आदेश अवैध होगा।

यह प्रस्तुत किया गया था कि अन्यथा भी रेखा (सुप्रा) का फैसला तीन न्यायाधीशों की बेंच द्वारा दिया गया है और डिंपल हैप्पी धाकड़ (सुप्रा) (जिसमें एक अलग दृष्टिकोण लिया गया था) के मामले में दो न्यायाधीशों बेंच द्वारा फैसला दिया गया है।

यह भी प्रस्तुत किया गया था कि किसी भी मामले में, जैसे कि वर्तमान मामले में, किसी भी अदालत के समक्ष निरोधी की कोई जमानत याचिका लंबित नहीं थी।

इन सामग्रियों को संबोधित करते हुए पीठ ने कहा:

"अब तक इस अदालत के फैसलों पर निर्भरता के आधार पर रीना (सुप्रा) और टीवी श्रवण (सुप्रा) के मामलों में, जो कि निरोधीकी ओर से पेश किए गए वकील द्वारा संबंधित है, शुरू में ही, इसे नोट किया जाना आवश्यक है।


इस मामले के तथ्यों और परिस्थितियों के बारे में यहां बताया गया है कि पूर्वोक्त निर्णय, निरोधी के लिए किसी भी सहायता के लिए नहीं होंगे, जैसे कि, वर्तमान मामले के तथ्यों पर ये लागू नहीं होगा। यहां तक ​​कि रेखा (सुप्रा) के मामले में, रामेश्वर शॉ (सुप्रा) के मामले में इस न्यायालय की संविधान पीठ के फैसले को न्यायालय के समक्ष विचार के लिए नहीं रखा गया था और इसलिए इस न्यायालय के पास उक्त निर्णय पर विचार करने का कोई अवसर नहीं था। यह भी ध्यान देने की आवश्यकता है कि रेखा (सुप्रा) के मामले में इस न्यायालय के निर्णय पर विचार करने के बाद भी, जो कि निरोधी की ओर से पेश होने वाले वकील द्वारा डिंपी हैप्पी धाकड़ (के मामले में) पर पूरी तरह निर्भर था, इस अदालत ने कहा है कि अगर कोई व्यक्ति न्यायिक हिरासत में है, तो भी उसे निवारक हिरासत में रखा जा सकता है, बशर्ते कि निरोधक प्राधिकरण द्वारा विवेक का इस्तेमाल होना चाहिए।"

उच्च न्यायालय के आदेश को रद्द करते हुए पीठ ने कहा कि

"उच्च न्यायालय द्वारा हिरासत के आदेशों को खारिज कर दिया गया था और उसी तारीख को कोर्ट ने निरोधी को जमानत दी थी। इसलिए निरोधक प्राधिकरण के दिमाग में यह आशंका है कि निरोधी को जमानत पर रिहा किए जाने की संभावना है और इसे अच्छी तरह से स्थापित किया गया था।"

आदेश की कॉपी डाउनलोड करने के लिए यहांं क्लिक करेंं



Next Story