Top
ताजा खबरें

अयोध्या सुनवाई 14वां दिन, हिंदू पक्षकार ने कहा, बाबर न तो अयोध्या गया और न ही मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाने के आदेश दिए

LiveLaw News Network
29 Aug 2019 3:53 AM GMT
अयोध्या सुनवाई 14वां दिन, हिंदू पक्षकार ने कहा, बाबर न तो अयोध्या गया और न ही मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाने के आदेश दिए
x

एक हिंदू पक्षकार ने बुधवार को सुप्रीम कोर्ट के समक्ष ये दावा किया कि मुगल सम्राट बाबर ने न तो अयोध्या का दौरा किया और न ही विवादित राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद स्थल पर वर्ष 1528 में मस्जिद बनाने के लिए मंदिर को ध्वस्त करने का आदेश दिया।

"तत्कालीन समय की चर्चित पुस्तकों में नहीं है बाबरी मस्जिद का जिक्र"

अखिल भारतीय श्री राम जन्मभूमि पुनरुत्थान समिति जो इस मामले में एक मुस्लिम पक्षकार द्वारा दायर मुकदमे की प्रतिवादी है, ने तुजुक-ए-बाबरी या बाबरनामा, हुमायूंनामा, अकबरनामा और तुजुक-ए-जहाँगीरी जैसी ऐतिहासिक किताबों का हवाला दिया और मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली 5-न्यायाधीशों की संविधान पीठ के समक्ष यह कहा कि इनमें से किसी ने भी बाबरी मस्जिद के अस्तित्व पर बात नहीं की।

"बाबरनामा में भी नहीं है बाबरी मस्जिद के निर्माण या मंदिर के विनाश का जिक्र"

दशकों पुराने मामले के 14वें दिन दलीलें देते हुए वरिष्ठ वकील पी. एन. मिश्रा ने कहा कि इन पुस्तकों, विशेष रूप से 'बाबरनामा', ने अयोध्या में प्रथम मुगल सम्राट के सेनापति मीर बकी द्वारा बाबरी मस्जिद के निर्माण या मंदिर के विनाश के बारे में बात नहीं की।

"बाबर ने अयोध्या में प्रवेश नहीं किया था और इसलिए उसके पास वर्ष 1528 में मंदिर के निर्माण और मस्जिद के विध्वंस का कोई अवसर नहीं था और इसके अलावा, उसके कमांडर के रूप में मीर बाक़ी के नाम वाला कोई व्यक्ति नहीं था," मिश्रा ने पीठ को बताया।

"मीर बकी नहीं था अयोध्या पर आक्रमण का नेतृत्व करने वाला सेनापति"

इसके बाद जब पीठ ने उनसे पूछा कि वह इन ऐतिहासिक पुस्तकों का उल्लेख करके क्या साबित करने की कोशिश कर रहे हैं तो मिश्रा ने पीठ को कहा कि मीर बकी, अयोध्या पर आक्रमण का नेतृत्व करने वाला सेनापति नहीं था।

"साबित किया जाए कि बाबर था उस स्थल का वाकिफ"

बाबरनामा 'पहली ऐतिहासिक पुस्तक है जो अब तक मुसलमानों के मामले से संबंधित है, मिश्रा ने कहा,"मैं प्रतिवादी हूं, उनके मामले को खारिज करना चाहता हूं। उन्होंने कहा है कि हमारे मंदिर को मस्जिद घोषित किया जाना चाहिए। अगर किसी इमारत को मस्जिद घोषित किया जाना है तो उन्हें यह साबित करना होगा कि बाबर उस स्थल का 'वाकिफ' था।"

"आदमी झूठ बोल सकता है, पर हालात नहीं"

मिश्रा ने कहा कि 'बाबरनामा' सम्राट के जीवन के 18 वर्षों से संबंधित है लेकिन अयोध्या और इसके अलावा किसी भी मस्जिद के बारे में बात नहीं करता है। जब तथाकथित मस्जिद का निर्माण करने का आदेश दिया गया था तो राजा आगरा में था। मिश्रा ने कहा, "एक आदमी झूठ बोल सकता है, लेकिन हालात झूठ नहीं बताते हैं।"

बाबर ने अवध के मुस्लिम शासक इब्राहिम लोदी को पराजित किया और उसे मार डाला। फिर उसने अपने भाई को क्षेत्र का कमांडर बना दिया। यहां मुसलमानों ने कहा है कि मीर बकी बाबर के सेनापति थे, जो एक गलत तथ्य है।

"मस्जिद से जुड़े शिलालेख थे फ़र्ज़ी"

उन्होंने कहा कि शिलालेख, जो कथित रूप से वहां मस्जिद के अस्तित्व से संबंधित थे, पहली बार वर्ष 1946 में देखे गए थे जब एक मजिस्ट्रेट ने उस जगह का दौरा किया था और उन्होंने लिखा था कि शिलालेख फर्जी थे।

"आईन- ए-अकबरी' में नहीं मिलता है किसी मस्जिद का जिक्र"

तब मिश्रा ने अबुल फजल द्वारा लिखित 'आईन- ए-अकबरी' का जिक्र किया और कहा कि वर्ष 1576 में उन्होंने अयोध्या में 'रामकोट' के बारे में लिखा था, जिसे हिंदुओं द्वारा भगवान राम के जन्म स्थान के रूप में पूजा जाता था। "लेकिन, 'आईन-ए-अकबरी' अयोध्या में किसी भी मस्जिद का उल्लेख नहीं करता है," उन्होंने कहा, हालांकि यह पुस्तक आसपास के इलाकों में तीन कब्रों के बारीक विवरण को नोट करती है।

"तुजुक-ए-जहाँगीरी' और 'हुमायूँनामा' में भी नहीं है मस्जिद के निर्माण का जिक्र"

पीठ ने फिर पूछा, "क्या आईन- ए-अकबरी किसी भी अन्य मस्जिदों का उल्लेख नहीं करता है।" इस पर वकील ने कहा कि वह विवरण के साथ वापस आ आएंगे। वकील ने बाबर की बेटी गुलबदन बेगम द्वारा लिखित 'तुजुक-ए-जहाँगीरी' और बाबर के पड़पोते द्वारा लिखी गई 'हुमायूँनामा' का हवाला दिया और इस बात पर जोर दिया कि इन 2 किताबों में अयोध्या में मस्जिद के निर्माण के बारे में कुछ भी उल्लेख नहीं किया गया है।

"औरंगज़ेब ने बनवाई थी मस्जिद"

पीठ ने पूछा, "इस दावे के साथ कि इमारत में मस्जिद और मंदिर दोनों की विशेषता क्या है ... आप कहते हैं कि संरचना को नष्ट कर दिया गया था।" मिश्रा ने यह जवाब दिया कि यह स्थापित किया गया है कि बाबर ने मस्जिद नहीं बनाई थी और इसे औरंगजेब ने बनवाया था जिसने मथुरा और काशी जैसे स्थानों पर मंदिरों को नष्ट कर दिया था। एक सिविल मुकदमे में प्रतिवादी का कर्तव्य वादी के मामले को निपटाना है। औरंगजेब के कमांडरों में से एक ने कहा था कि मुगल सम्राट ने चार प्रसिद्ध हिंदू संरचनाओं को नष्ट कर दिया।

"समकालीन तुलसीदास ने भी नहीं किया है बाबरी मस्जिद का जिक्र"

पीठ ने तब पूछा कि ढांचा विध्वंस के बाद उस जगह को मस्जिद घोषित करने की मांग करने वाले मुस्लिम पक्ष की प्रार्थना का क्या होगा। वकील ने कहा कि वह गलत दावों के आधार पर मुकदमा खारिज करने की मांग कर रहे हैं। तुलसी दास, जिन्होंने 'रामायण' लिखी थी, का उल्लेख करते हुए वकील ने यह कहा कि वह समकालीन थे लेकिन बाबरी मस्जिद के बारे में कुछ भी नहीं लिखा गया है।

उन्होंने कहा कि वह इस तथ्य को स्थापित करने के लिए इस्लामी कानून और 'हदीस' का उल्लेख करेंगे कि इस्लाम में अन्य की संपत्ति का दावा 'हराम' (निषिद्ध) है।

आगे मिश्रा ने मुस्लिम पक्षकारों के वकील वरिष्ठ वकील राजीव धवन की दलीलों का विरोध किया कि जिन पुस्तकों को उच्च न्यायालय में प्रदर्शित नहीं किया गया है, उन्हें शीर्ष अदालत में यह कहते हुए उद्धृत नहीं किया जा सकता कि साक्ष्य अधिनियम इसकी अनुमति देता है।

दारुल इस्लाम 'की अवधारणा का उल्लेख करते हुए, मिश्रा ने कहा कि बाबर ने मुस्लिम शासक लोदी से अवध जीता था, इसलिए उसे गैर- काफ़िरों' (गैर-विश्वासियों) की संपत्तियों को जब्त करने के लिए इस्लामी कानून के तहत विस्थापित किया गया था। मामले की सुनवाई गुरुवार को भी जारी रहेगी।

Next Story