Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

जानवरों के पास 'जीवन का मौलिक अधिकार, त्रिपुरा हाईकोर्ट ने मंदिरों में जानवरों की बलि पर रोक लगाई

LiveLaw News Network
28 Sep 2019 6:49 AM GMT
जानवरों के पास जीवन का मौलिक अधिकार, त्रिपुरा हाईकोर्ट ने मंदिरों में जानवरों की बलि पर रोक लगाई
x
"मंदिर में एक जानवर का बलिदान, धर्म का एक अनिवार्य हिस्सा नहीं होना चाहिए, भारत के संविधान के अनुच्छेद 21 का भी उल्लंघन है।"

त्रिपुरा हाईकोर्ट ने शुक्रवार को दिए गए एक महत्वपूर्ण फैसले में राज्य के मंदिरों में पशु / पक्षियों के बलिदान पर प्रतिबंध लगाते हुए कहा कि भारत के संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत जानवरों को भी जीवन का मौलिक अधिकार है।

मुख्य न्यायाधीश संजय करोल और न्यायमूर्ति अरिंदम लोध की बेंच ने कहा कि राज्य सहित किसी भी व्यक्ति को त्रिपुरा राज्य के भीतर किसी भी मंदिर के परिसर के भीतर किसी भी पशु / पक्षी के बलिदान की अनुमति नहीं दी जाएगी। इसमें कहा गया है कि मंदिर में किसी जानवर का बलिदान, धर्म का एक अनिवार्य हिस्सा नहीं रहा है और यह भारत के संविधान के अनुच्छेद 21 का भी उल्लंघन है।

बलि के खिलाफ जनहित याचिका

पीठ ने एक सेवानिवृत्त न्यायिक अधिकारी, सुभाष भट्टाचार्जी द्वारा एक अंधविश्वास के आधार पर दो मुख्य मंदिर यानी माता त्रिपुरेश्वरी देवी मंदिर और चतुर दास देवता मंदिर में देवी और अन्य देवी-देवताओं के समक्ष दी जानी वाली निर्दोष जानवरों की बलि के खिलाफ एक जनहित याचिका दायर की जिसे अनुमति देते हुए कोर्ट ने ये निर्देश जारी किए।

न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया गया कि, माता त्रिपुरेश्वरी देवी मंदिर में, जिला प्रशासन, त्रिपुरा सरकार के संरक्षण में हर दिन एक बकरे की बलि दी जा रही है और विशेष अवसरों पर, बलि के रूप में पर्याप्त संख्या में आम जनता द्वारा जानवरों की बलि (देवी को भेंट) दी जा रही है।

राज्य ने पीठ के समक्ष प्रस्तुत किया कि पशु बलि की प्रथा दश महाविद्या की पूजा की तांत्रिक विधि के हिंदू अनुष्ठानों की लंबी स्वीकृत प्रक्रिया के अनुसार है।

राज्य द्वारा यह तर्क दिया गया कि दिलचस्प बात यह है कि याचिकाकर्ता ने केवल हिन्दू धर्म के संबंध में पशु बलि के मुद्दे को याचिका में शामिल किया था और "बकरी ईद" के त्योहार के दौरान मुस्लिम समुदाय द्वारा किए गए पशु बलिदान को कोई चुनौती नहीं दी थी। याचिका सार्वजनिक शांति को विचलित करने के लिए हिंदू भावना को आहत करने के लिए दायर की गई है और इस तरह से राजनीति से प्रेरित है।

राज्य ने कहा कि महाराजा और भारतीय डोमिनियन के बीच एक विलय समझौते का उल्लेख करते हुए, राज्य ने कहा कि यह निर्धारित करता है कि राज्य सरकार एक पारंपरिक प्रणाली में माता त्रिपुरेश्वरी और अन्य मंदिरों की पूजा करेगी। चूँकि महाराजा के शासन से, स्वतंत्रता से पहले इस तरह की प्रथा का पालन किया गया था, इसलिए पूजा के दौरान घरेलू पशु बलि, पूजा का एक अभिन्न अंग होने के नाते और अभी भी जारी है और इसे रोका नहीं जा सकता है।

बलिदान के लिए ऐसे जानवर की पेशकश करने में राज्य की कार्रवाई स्वीकार्य नहीं है

जनहित याचिका को स्वीकार करते हुए पीठ ने कहा कि माता त्रिपुरेश्वरी मंदिर और कुछ अवसरों पर अन्य मंदिरों में बलि के लिए प्रतिदिन एक बकरी देना राज्य के आर्थिक, वाणिज्यिक, राजनीतिक या धर्मनिरपेक्ष चरित्र के सार को नहीं दर्शाता और इसलिए, बलिदान के लिए ऐसे जानवर की पेशकश करने में राज्य की कार्रवाई न तो भारतीय संविधान के तहत स्वीकार्य है और न ही किसी अन्य क़ानून के तहत मान्य है।

बलिदान के लिए एक जानवर की पेशकश करने का अधिकार संविधान का अनुच्छेद 25 (1) के तहत संरक्षित धर्म का अभिन्न और आवश्यक हिस्सा नहीं है। जैसे, राज्य द्वारा किसी भी धर्म को स्वीकार करने की स्वतंत्रता के अधिकार का उल्लंघन नहीं किया जा सकता है। राज्य का संवैधानिकता के अलावा कोई धर्म नहीं है और अनुच्छेद 25 के तहत अभिव्यक्ति 'व्यक्ति' को प्राकृतिक व्यक्ति के संदर्भ में होना चाहिए। इस तरह की प्रथा को वापस लेने से धर्म के मौलिक चरित्र में किसी भी तरह का कोई बदलाव नहीं होगा।

संविधान के विभिन्न लेखों का हवाला देते हुए, पीठ ने कहा कि यह भारत के प्रत्येक नागरिक से सभी जीवित प्राणियों के लिए करुणा का प्रदर्शन करने और सभी वन्यजीवों के प्रति मानवतावाद का स्वभाव विकसित करने का आह्वान करता है। और यह कि संविधान के निर्माताओं ने अन्य बातों के साथ-साथ, दया और मानवतावाद की भावना विकसित की, हिंसा को रोका और सभी जीवों के प्रति समान व्यवहार किया।

पशु को जीवन जीने का मौलिक अधिकार है

पीठ ने जल्लीकट्टू मामले में निर्णय का हवाला देते हुए, भारतीय पशु कल्याण बोर्ड बनाम ए नागराजा और ओआरएस (2014) 7 एससीसी 547 और मुख्य सचिव, चेन्नई, तमिलनाडु और ओआरएस पशु कल्याण बोर्ड और अन्य (2017) 2 SCC 144, के मामले का उदाहारण दिया। पीठ ने देखा,

"जीवन का अधिकार अब सभी जीवित प्राणियों तक विस्तृत है, इस प्रकार अभिव्यक्ति "व्यक्ति" को प्रासंगिक रूप से पढ़ा जाना चाहिए। इसलिए, एक जानवर के जीवन को, जिसके लिए हम चिंतित हैं, कानून द्वारा स्थापित प्रक्रिया के अनुसार उसे वंचित नहीं किया सकता। कानून द्वारा स्थापित यह प्रक्रिया क्या है, यह मेनका गाँधी बनाम में भारत संघ और अन्य, (1978) 1 एससीसी 248 में संविधान पीठ (7 न्यायाधीशों) द्वारा स्पष्ट रूप से बताया गया है, जिसका मतलब कानून की उचित प्रक्रिया है।

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 21 में "जीवन" शब्द पर्याप्त है, जिसमें प्रत्येक जीवित जीव को मनुष्य, पशु, कीड़े या पक्षी शामिल किया गया है। जीवन से वंचित रहने को कानून द्वारा स्थापित प्रक्रिया के अनुसार होना चाहिए। इस प्रकार यह इस संबंध में उचित है कि पशु की बलि देना और उनका जीवन छीन लेना भी कानून की उचित प्रक्रिया के अनुसार होना है।

जिस तरह से और जिस प्रकृति से हम संबंधित हैं, उसके बारे में धर्म की आड़ में, जिस पर हमारी राय है, पशु की बलि, कानून द्वारा कहीं भी अनुमति नहीं है। केवल ऐसी प्रथाएं अनुच्छेद 25 (1) के तहत सुरक्षा का लाभ उठा सकती हैं, जो धर्म के एक अनिवार्य और अभिन्न अंग हैं। जल्लीकट्टू (सुप्रा) में यह देखा गया है कि जानवरों के पास भी जीवन होता है जिसे उक्त अनुच्छेद के दायरे में संरक्षित करना पड़ता है। "



Next Story