Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

" अल्कोहल वाष्प थेरेपी से COVID-19 का उपचार संभव" : सुप्रीम कोर्ट में मरीजों को अल्कोहल वाष्प थैरेपी देने के लिए ICMR/ WHO को निर्देश देने की याचिका

LiveLaw News Network
12 May 2020 1:23 AM GMT
 अल्कोहल वाष्प थेरेपी से COVID-19  का उपचार संभव : सुप्रीम कोर्ट में मरीजों को अल्कोहल वाष्प थैरेपी देने के लिए ICMR/ WHO को निर्देश देने की याचिका
x

कोरोनवायरस के उपचार के लिए इथेनॉल वाष्प (या किसी भी उपयुक्त वाष्प चिकित्सा) की मंजूरी के लिए निर्देश जारी करने की मांग के लिए सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की गई है।

याचिका में केंद्र, विश्व स्वास्थ्य संगठन ( WHO), इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च (ICMR) और / या सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन व इसमें शामिल किसी भी हिस्सेदार को निर्देश देने की मांग की गई है।

याचिकाकर्ता, चंद्रशेखरन रामास्वामी, एक "स्वतंत्र आविष्कारक, लेखक और एक्टिविस्ट" हैं, जिन्होंने विभिन्न महत्वपूर्ण परियोजनाओं पर काम किया है और वह कहते हैं कि उत्तरदाताओं में से किसी को भी COVID 19 से संक्रमित उन व्यक्तियों को सुरक्षित स्व दवा के रूप में "इथेनॉल वाष्प के अनुमोदन" या किसी भी उपयुक्त अल्कोहल वाष्प थेरेपी देने के लिए उचित निर्देश दिए जा सकते हैं जिन्हें कोरोना के बहुत शुरुआती लक्षण हैं।

यह माना गया है कि इथेनॉल वाष्प और अन्य उपयुक्त अल्कोहल वाष्प थैरेपी का उपयोग परीक्षण में पुष्टि से पहले एक निवारक उपचार है और COVID 19 के प्रभाव को "मारता है।

याचिकाकर्ता का कहना है कि COVID 19 से संक्रमित व्यक्ति को प्रारंभिक अवस्था में फेफड़ों में बहुत ही अस्थायी अवधि के लिए आवश्यक अंतराल पर धीरे-धीरे छोटे से मध्यम स्तर तक इथेनॉल वाष्प थैरेपी दी जाना चाहिए क्योंकि अभी तक इस महामारी के लिए कोई भी उपलब्ध दवा नहीं हुई है और ये रोगी को संभवत: बेहतर उपचार देगा, " सुप्रीम कोर्ट में दाखिल याचिका में कहा गया है।

याचिकाकर्ता ने यह भी कहा है कि उसने 3 अप्रैल और 8 अप्रैल को उल्लिखित उत्तरदाताओं को विस्तृत प्रतिनिधित्व में भेजा था लेकिन कोई जवाब नहीं आया है।

इथेनॉल वाष्प के उपयोग के वैज्ञानिक आधार पर जोर देते हुए याचिकाकर्ता ने संकेत दिया कि

"यह पश्चिमी चिकित्सा प्रणाली" में कोई नया नहीं है और यह कि "ऑक्सीजन के पानी और इथेनॉल के वाष्पीकरण द्वारा प्राप्त वाष्प का सांस लेना फेफड़े संबंधित रोगों के उपचार में उपयोग किया जाता है।"

इसके अलावा, कोरोनवायरस को मारने के लिए हैंड सेनिटाइज़र के उपयोग के बीच का चित्र करते हुए, जिसमें 60% अल्कोहल होता है, याचिकाकर्ता का कहना है कि वह "उम्मीद करते हैं कि COVID -19 वायरस जो फेफड़ों में प्रवेश करता है, उसे अल्कोहल वाष्प द्वारा मारा जा सकता है"

याचिकाकर्ता का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा ICMR और WHO को उपचार के लिए इथेनॉल वाष्प पर विचार करने के लिए निर्देशित किया जाना चाहिए ताकि जल्द से जल्द दुनिया भर में हो रहे लोगों के मूल्यवान जीवन के भारी नुकसान को कम किया जा सके।

" याचिकाकर्ता ने कहा कि

"वास्तव में मैंने इस पद्धति को स्वयं के प्रयोगों द्वारा अपने स्वयं के अनुभव से सुझाया है। मैंने अपने फ्लू और सामान्य सर्दी के लिए कई बार इथेनॉल वाष्प का उपयोग किया है और बेहतर लाभ हुआ है क्योंकि मुझे एलोपैथी सहित अन्य दवाओं के अनुप्रयोगों से इसके समान फायदा नहीं मिला है। इसलिए मुझे दृढ़ता से लगता है कि इथेनॉल वाष्प चिकित्सा न केवल इन्फ्लूएंजा और सामान्य सर्दी के वायरस के लिए उपयोगी हो सकती है, बल्कि COVID -19 सहित श्वसन प्रणाली में अन्य वायरस / बैक्टीरियल संक्रमणों के लिए भी उपयोगी हो सकती है। "

इसके अलावा, ये कहते हुए कि इथेनॉल कई चिकित्सा उन्मुख उद्देश्यों के लिए एक "सार्वभौमिक उपाय" है और "जटिल प्रक्रियाओं" को पार करता है जो महंगी हो सकती हैं, याचिकाकर्ता संबंधित अधिकारियों द्वारा इसके उपयोग को अपनाने का आग्रह करता है और कहता है कि अस बीमारी की गंभीरता को देखते हुए अस्पताल में भर्ती और गंभीर रूप से बीमार रोगियों को भी संभावित प्रभावी चिकित्सा से सबसे अधिक लाभ प्राप्त हो सकता है .... वर्तमान में, हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन से लाभ की उम्मीद है, फिर भी बहुत कम सबूत हैं।

याचिका को वकील सी आर जया सुकिन ने तैयार किया है और वकील नरेंद्र कुमार वर्मा ने इसे दायर किया है। 

Next Story