Top
ताजा खबरें

आर्थिक आधार पर 10 फीसदी आरक्षण : सुप्रीम कोर्ट ने फिर किया रोक लगाने से इनकार, भर्तियों में रोक पर सुनवाई 2 मई को

Live Law Hindi
8 April 2019 10:29 AM GMT
आर्थिक आधार पर 10 फीसदी आरक्षण : सुप्रीम कोर्ट ने फिर किया रोक लगाने से इनकार, भर्तियों में रोक पर सुनवाई 2 मई को
x

सुप्रीम कोर्ट ने एक बार फिर आर्थिक रूप से पिछड़े वर्गों को 10 प्रतिशत आरक्षण पर रोक लगाने से इनकार कर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि पीठ 2 मई को इस अर्जी पर विचार करेगी कि नौकरियों में आरक्षण के तहत भर्तियों पर रोक लगाई जाए या नहीं।

सोमवार को सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता की ओर से पेश वरिष्ठ वकील राजील धवन ने पीठ को बताया कि रेलवे भी इसी आधार पर हजारों नियुक्तियां कर रहा है। ऐसे में इस पर रोक लगाई जानी चाहिए।

हालांकि इस दौरान केंद्र की ओर से पेश अटार्नी जनरल के. के. वेणुगोपाल ने इसका विरोध किया और कहा कि इससे पहले 2 बार पीठ इस कानून पर रोक लगाने से इनकार कर चुका है।

इस दौरान जस्टिस एस. ए. बोबड़े और जस्टिस एस. अब्दुल नजीर की पीठ ने कहा कि वो इस मामले में 2 मई को सुनवाई करेंगे कि क्या इसके आधार पर हुई भर्तियों में इस आरक्षण पर रोक लगाई जाए या नहीं।

केंद्र सरकार ने ठहराया संविधान संशोधन को उचित
इससे पहले केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में समाज के आर्थिक रूप से पिछड़े वर्गों को 10 प्रतिशत आरक्षण प्रदान करने के लिए हाल के कानून को सही ठहराया है। केंद्र ने कहा है कि उच्च शिक्षा और अवसरों से बाहर किए गए लोगों को उनकी आर्थिक स्थिति के आधार पर रोजगार और रोजगार में सामाजिक समानता को बढ़ावा देने के लिए यह संवैधानिक संशोधन लाया गया है।

कानून को चुनौती देने वाली याचिकाओं के जवाब में केंद्र ने जोर दिया है कि संविधान (103 वें) संशोधन अधिनियम में आर्थिक आरक्षण प्रदान करने के लिए संविधान में अनुच्छेद 15 (6) और 16 (6) पेश किया गया है जो संविधान की संरचना (basic structure) को प्रभावित नहीं करता।

आर्थिक मानदंड है एक प्रासंगिक कारक
केंद्र के हलफनामे में कहा गया है कि सामाजिक और शैक्षणिक पिछड़ेपन के निर्धारण के लिए आर्थिक मानदंड को एक प्रासंगिक कारक माना गया है। यह कहा गया है कि सामाजिक-आर्थिक पिछड़े वर्गों की पहचान के लिए उपयोग किए जाने वाले संकेतकों का उपयोग आर्थिक रूप से पिछड़े वर्गों की पहचान के लिए नहीं किया जा सकता क्योंकि आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग वर्ग समरूप नहीं है। दूसरी बात, उनके पास जाति की तरह सामान्य मापदंड नहीं हैं जिसके आधार पर आर्थिक पिछड़ापन विकसित हो सकता है।

हलफनामे में कहा गया है, "मूल संरचना का हिस्सा होने वाली एक स्थिति को मूर्त रूप देने वाले एक अनुच्छेद को प्रभावित करने या लागू करने के लिए एक संशोधन को असंवैधानिक घोषित करना पर्याप्त नहीं है। एक संवैधानिक संशोधन के खिलाफ चुनौती को बनाए रखने के लिए यह दिखाया जाना चाहिए कि इसके जरिये संविधान के मूल स्वरूप को बदल दिया गया है।"

संशोधन है सकारात्मक कार्रवाई के सिद्धांत के अनुरूप
केंद्र ने कहा कि संविधान के एक अनुच्छेद में केवल एक संशोधन, भले ही एक बुनियादी सुविधा को लागू करता हो, जरूरी नहीं कि इसमें शामिल बुनियादी सुविधा का उल्लंघन हो। यह दावा किया गया है कि अनुच्छेद 15 (6) और अनुच्छेद 16 (6) के नए सम्मिलित प्रावधान आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों (ईडब्ल्यूएस) की उन्नति के प्रावधानों को सक्षम कर रहे हैं और वास्तव में ये सकारात्मक कार्रवाई के सिद्धांत के अनुरूप हैं।

ईडब्ल्यूएस कोटे में आरक्षण की 50% सीमा का उल्लंघन बताकर इस आधार पर इस संविधान संशोधन को चुनौती दी गई है क्योंकि इंद्रा साहनी मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा लगाई गई यह सीमा संविधान संशोधन के बाद लागू नहीं है। "वर्ष 1990 में भारत सरकार द्वारा जारी किए गए कुछ कार्यालय ज्ञापनों की संवैधानिक वैधता का निर्धारण करते हुए उक्त निर्णय के रूप में इंद्रा साहनी मामले में दिए गए निष्कर्ष वर्तमान मामले पर लागू नहीं हैं।"

आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए आरक्षण की आवश्यकता
केंद्र ने याचिकाकर्ताओं के इस तर्क को खारिज कर दिया कि आरक्षण केवल आर्थिक मानदंडों के आधार पर प्रदान नहीं किया जा सकता। इसमें कहा गया है कि कई समितियां स्थापित की गई हैं जिनमें समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए आरक्षण की आवश्यकता को उजागर करते हुए मात्रात्मक डेटा एकत्र किया गया है। उनके द्वारा सामाजिक और शैक्षिक पिछड़ेपन के निर्धारण के लिए आर्थिक मानदंड को एक प्रासंगिक कारक माना गया है।

याचिकाकर्ताओं ने तर्क दिया है कि आरक्षण की अवधारणा स्वयं किसी व्यक्ति की आर्थिक स्थिति के संदर्भ में नहीं है, बल्कि यह उस समुदाय के संदर्भ में है, जिसमें वह उस समुदाय को शिक्षा और रोजगार की मुख्यधारा प्रणाली में एकीकृत करने के विचार के साथ है।

Next Story