Download App
  • Download Livelaw Android App
  • Download Livelaw IOS App
Follow Us
अयोध्या का फैसला ऐतिहासिक गलतियों में सुधार के लिए नज़ीर नहीं बना सकताअयोध्या का फैसला ऐतिहासिक गलतियों में सुधार के लिए नज़ीर नहीं बना सकता

मनु सेबेस्ट‌ियनराम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद पर दिए फैसले में सुप्रीम कोर्ट की कुछ टिप्‍पणियों पर गौर करें तो ये नहीं कहा जा सकता ‌कि ये फैसला मौजूदा दौर के उन मालिकाना दावों के समर्थन में कानूनी नजीर...

सुप्रीम को वो स्टे ऑर्डर, जिसने सीबीआई को अब तक जिंदा रखा हैसुप्रीम को वो स्टे ऑर्डर, जिसने सीबीआई को अब तक जिंदा रखा है

मनु सेबेस्टियन 6 वर्ष पूर्व गुवा‌हाटी हाई कोर्ट के एक फैसले ने देश को झकझोर दिया था. गुवा‌हाटी हाई कोर्ट ने, एक आश्चर्यजनक फैसले में, भारत की सर्वोच्‍च जांच एजेंसी सीबीआई के गठन को ही...

नए युग में कोर्ट की रिपोर्टिंग : बार और बेंच दोनों हैं कसौटी पर
नए युग में कोर्ट की रिपोर्टिंग : बार और बेंच दोनों हैं कसौटी पर

संजोय घोष हाल में कॉस्मेटिक क्लीनिक की निगरानी के लिए एक जनहित याचिका की सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट के एक जज ने हल्के-फुल्के अन्दाज़ में इस तरह के क्लीनिक की बहुत सारे लोगों के जीवन में...

राम जेठमलानी : एक चतुर वक़ील और एक चालाक मुवक्किल
राम जेठमलानी : एक चतुर वक़ील और एक चालाक मुवक्किल

रणवीर सिंह राम जेठमलानी अमूमन यह कहा करते थे –'मैं भगवान के डिपार्चर लाउंज मैं बैठा हुआ हूं, ताकि उनसे अदालत के अंदर और बाहर मोलभाव कर सकूं।' ज़ाहिर है कि किसी ने उनकी बातों को गंभीरता से...

अनिश्चितता और डर के बीच न्याय का इंतज़ार करता जम्मू-कश्मीर
अनिश्चितता और डर के बीच न्याय का इंतज़ार करता जम्मू-कश्मीर

पीवी दिनेश संविधान के अनुच्छेद 144 के अनुसार, 'सभी अथॉरिटीज़ चाहे वो सिविल हो या न्यायिक, सुप्रीम कोर्ट की मदद के लिए कार्य करेंगे।' पर इस तरह की संवैधानिक ज़रूरतों के बावजूद जम्मू-कश्मीर में 5...

युवा वकीलों के सपनों पर भारी ऑल इंडिया बार एग्ज़ामिनेशन की विफलता
युवा वकीलों के सपनों पर भारी ऑल इंडिया बार एग्ज़ामिनेशन की विफलता

राधिका रॉयबार काउन्सिल ऑफ़ इंडिया ने 26.08.2019 को एक सूचना जारी की थी जो ऑल इंडिया बार एग्ज़ामिनेशन (एआईबीई) नहीं पास करनेवालों के बारे में थी। इस सूचना के अनुसार 2010 से अब तक कुल 4,778 वक़ील यह...

क्या किसी हाईकोर्ट के न्यायाधीश के खिलाफ दर्ज की जा सकती है FIR?: समझिये न्यायमूर्ति एस. एन. शुक्ला मामला
क्या किसी हाईकोर्ट के न्यायाधीश के खिलाफ दर्ज की जा सकती है FIR?: समझिये न्यायमूर्ति एस. एन. शुक्ला मामला

मंगलवार (31-07-2019) को मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने CBI को इलाहाबाद उच्च न्यायालय, लखनऊ पीठ के जज न्यायमूर्ति एस. एन. शुक्ला(श्री नारायण शुक्ला) के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम (PCA) के तहत FIR...

वायु प्रदूषण और सुप्रीम कोर्ट : वेहिकुलर पॉल्यूशन केस (१९८५-२०१९) की एक समीक्षा
वायु प्रदूषण और सुप्रीम कोर्ट : वेहिकुलर पॉल्यूशन केस (१९८५-२०१९) की एक समीक्षा

'बीटिंग एयर पॉल्यूशन' इस वर्ष के पर्यावरण दिवस की थीम है. इसी बात को ध्यान में रखते हुए वैश्विक स्तर पर पर्यावरण और वायु प्रदूषण के स्वास्थ्य सम्बन्धी खतरों के प्रति जागरूकता फ़ैलाने की ओर प्रयास ...

उपाय जिनसे आप अपने ऋण की प्रतिभूति कर सकते है
उपाय जिनसे आप अपने ऋण की प्रतिभूति कर सकते है

इस दौर के प्रतिस्पर्धा युक्त बाजार मे, वित्तीय सहायता (क़र्ज़ द्वारा) बाजार में उक्त प्राइवेट कारोबारियों को एवं उद्यमों को दी जाती रही है। इस उद्देश्य से संस्थाओं को बनाया गया है, जो कि बाजार में क़र्ज़...

Share it
Top