दिल्ली विश्वविद्यालय के 10 लॉ ग्रेजुएट फिलहाल सुप्रीम कोर्ट के जज, चार एक ही बैच से

दिल्ली विश्वविद्यालय के 10 लॉ ग्रेजुएट फिलहाल सुप्रीम कोर्ट के जज, चार एक ही बैच से

दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) के कैम्पस लॉ सेंटर के लिए यह गौरव की बात है कि सुप्रीम कोर्ट के करीब एक तिहाई (34 में से 10) मौजूदा न्यायाघीश उसके एलुम्नाई (भूतपूर्व छात्र) रहे हैं।

न्यायमूर्ति रवीन्द्र भट और न्यायमूर्ति हृषिकेश रॉय के सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के रूप में नियुक्ति की अधिसूचना के बाद शीर्ष अदालत में वर्तमान में दिल्ली विश्वविद्यालय के कैम्पस लॉ सेंटर से विधि स्नातक किए जजों की संख्या 10 हो गयी है।

दिल्ली विश्वविद्यालय से विधि स्नातक करने वाले अन्य सुप्रीम कोर्ट न्यायाधीश हैं:-

मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति रोहिंगटन फली नरीमन, न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़, न्यायमूर्ति संजय किशन कौल, न्यायमूर्ति नवीन सिन्हा, न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता, न्यायमूर्ति इंदु मल्होत्रा और न्यायमूर्ति संजीव खन्ना।

सीजेआई गोगोई, न्यायमूर्ति नरीमन और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता ने 1978 में डीयू से कानून की पढ़ाई पूरी की थी, जबकि न्यायमूर्ति नवीन सिन्हा ने 1979 में एलएलबी की थी।

न्यायमूर्ति चंद्रचूड, न्यायमूर्ति एस के कौल, न्यायमूर्ति रवीन्द्र भट और न्यायमूर्ति हृषिकेश रॉय कैम्पस लॉ सेंटर के 1982 बैच के छात्र रहे हैं।

न्यायमूर्ति इंदु मल्होत्रा ने 1983 में डीयू से एलएलबी डिग्री हासिल की थी। वर्ष 1983 में वकील के तौर पंजीकरण कराने वाले न्यायमूर्ति संजीव खन्ना भी डीयू के विधि स्नातक के छात्र रहे हैं। पूर्व न्यायाधीश- न्यायमूर्ति एम बी लोकुर और न्यायमूर्ति ए के सिकरी भी दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्र रहे हैं।

देश के विभिन्न हिस्सों- उत्तर, दक्षिण, पूरब और पश्चिम- के रहने वाले इन न्यायाधीशों ने दिल्ली से कानूनी शिक्षा हासिल की थी, जो दिल्ली की प्रतिभा और सांस्कृतिक विविधता को प्रतिबिम्बित करता है।

दिल्ली विश्वविद्यालय की फैकल्टी ऑफ लॉ की स्थापना 1924 में हुई थी। दिल्ली विश्वविद्यालय के तत्कालीन कुलपति तथा एक जाने-माने अधिवक्ता, न्यायविद और शिक्षाविद डॉ. हरि सिंह गौड़ फैकल्टी ऑफ लॉ के पहले डीन थे।

यह मॉरिश नगर स्थित डीयू के नॉर्थ कैम्पस में स्थित है और इसके इर्द-गिर्द हंसराज कॉलेज, दौलत राम कॉलेज, मिरांडा हाउस, सेंट स्टीफेन्स कॉलेज, दिल्ली, रामजस कॉलेज, हिन्दू कॉलेज, दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स एवं फैकल्टी ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज जैसे महत्वपूर्ण शिक्षण संस्थान मौजूद हैं। इस विभाग में फिलहाल 130 से अधिक शिक्षक और एलएलबी, एलएलएम तथा पीएचडी के करीब 7000 छात्र हैं।