सुप्रीम कोर्ट ने LLB छात्रा को गर्भावस्था के चलते कम उपस्थिति में राहत देने से इनकार किया

सुप्रीम कोर्ट ने LLB छात्रा को गर्भावस्था के चलते कम उपस्थिति में राहत देने से इनकार किया

सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) के एलएलबी पाठ्यक्रम के दूसरे वर्ष की उस छात्रा को उपस्थिति में छूट देने से इंकार कर दिया, जिसने गर्भावस्था के कारण कॉलेज छोड़ दिया था।

सुप्रीम कोर्ट ने छात्रा को दिल्ली हाईकोर्ट जाने को कहा है जहां पहले से मामला लंबित है। बेंच ने कहा कि एक बजे ये आदेश जारी करना कि याचिकाकर्ता को दो बजे परीक्षा में शामिल किया जाए, पीठ के लिए ये कहना सहज नहीं है।

याचिकाकर्ता अंकिता मीणा ने डीयू को निर्देश मांगा था कि वह उन्हें चौथी सेमेस्टर एलएलबी परीक्षा में शामिल होने की अनुमति दे। वह 70% उपस्थिति मानदंडों को पूरा नहीं कर सकी क्योंकि गर्भावस्था के कारण सेमेस्टर के लगभग 2 महीने चूक गए।

उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय के अध्याय III के अध्यादेश VII के नियम 2 (9) (डी) पर निर्भर छूट मांगी थी, जिसमें कहा गया है, "एक विवाहित महिला छात्र जिसे मातृत्व अवकाश दिया जाता है, मामले में व्याख्यान की कुल संख्या की गणना में कॉलेज या विश्वविद्यालय में, जैसा भी मामला हो, प्रत्येक अकादमिक वर्ष में उनके अध्ययन के पाठ्यक्रम के लिए, उनके प्रसूति छुट्टी की अवधि के दौरान दिए गए प्रत्येक विषय में व्याख्यान की संख्या को ध्यान में रखा नहीं जाएगा। "

हालांकि दिल्ली हाईकोर्ट ने नोट किया था कि दिल्ली और  विश्वविद्यालय और अन्य बनाम वंदना कंदारी और अन्य  के मामले में अदालत की डिवीजन बेंच के फैसले से स्थिति तय की गई थी।  इसमें  अदालत ने कहा था कि उपस्थिति की छूट के प्रयोजनों के लिए प्रसूति छुट्टी को एक अलग वर्ग में नहीं रखा जा सकता।

अदालत ने इस तथ्य पर प्रकाश डाला कि एलएलबी “एक विशेष पेशेवर पाठ्यक्रम है जहां बार काउंसिल ऑफ इंडिया नियमों के विपरीत कोई छूट नहीं दी जा सकती है, जो विशेष रूप से क्षेत्र को नियंत्रित करता है।" इसके बाद याचिका को खारिज कर दिया गया, "मेरे विचार में, बार काउंसिल ऑफ इंडिया की कानूनी शिक्षा के नियमों के नियम 12 में एलएलबी के प्रत्येक सेमेस्टर में 70% की अनिवार्य उपस्थिति निर्धारित करती है, दिल्ली विश्वविद्यालय के अध्याय III के अध्यादेश VII के  नियम 2 के 9 (डी)  पर कोई निर्भरता नहीं दी जा सकती  जो एक सामान्य प्रावधान है जो एलएलबी जैसे पेशेवर पाठ्यक्रम से निपटता है। "