जम्मू-कश्मीर में पत्थरबाजी: NHRC ने सेना अधिकारियों के बच्चों की शिकायत पर रक्षा मंत्रालय से “वास्तविक रिपोर्ट” मांगी

 राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने जम्मू और कश्मीर में कथित “सेना के मानवाधिकारों के अपमान और उल्लंघन” पर रक्षा मंत्रालय से “तथ्यात्मक रिपोर्ट” मांगी है।

 एनएचआरसी ने राज्य में पत्थरबाजी की  हालिया घटनाओं में सेना के कर्मियों के मानव अधिकारों के उल्लंघन का आरोप लगाते हुए सेना के अफसरों के तीन बच्चों द्वारा दायर शिकायत पर संज्ञान लिया है।  शिकायत में 27 जनवरी की घटना का हवाला दिया गया है,जब अनियंत्रित भीड़ ने कथित रूप से पत्थरबाजी कर सेना के प्रशासनिक काफिले को उकसाया। सेना के आत्मरक्षा में फायरिंग के लिए मजबूर होने के बाद तीन नागरिकों की मौत हो गई थी, लेकिन इस संघर्ष में सात सेना कर्मियों को घायल कर दिया गया और 11 वाहन क्षतिग्रस्त हुए।

शिकायतकर्ताओं ने अब आरोप लगाया है कि सेना के काफिले पर हमला होने के बावजूद “असुरक्षित अप्रतिष्ठित”, सेना के कर्मियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई जबकि  पत्थरबाजों के खिलाफ एफआईआर को राज्य सरकार के निर्देशों पर वापस ले लिया गया है। उन्होंनेतारीखवार, घटनाओं की एक श्रृंखला बताते हुए यह भी उद्धृत किया है, जिसमें कथित तौर पर सेना को उन लोगों से शत्रुता का सामना करना पड़ता है  जिन्हेंसुरक्षित रखने के लिए उसे तैनात किया गया है।

ऐसी सभी घटनाओं में  सेना के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी ऐसे तथ्यों के प्रकाश में शिकायतकर्ताओं का कहना है कि प्रशासन, जिसे भारतीय सेना द्वारा सहायता प्रदान की जा रही है, सशस्त्र बलों के सदस्यों के मानवाधिकारों की रक्षा करने में नाकाम रही है। इसके लिए उन्होंने कई देशों में अधिनियमित किए गए कानूनों का संदर्भ भी बनाया है, जहां सशस्त्र बलों पर पत्थरबाजी में शामिल लोगों को कठोर सजा दी जाती है। इन शिकायतों का संज्ञान लेते हुए एनएचआरसी ने शुक्रवार को जारी एक बयान में आरोपों पर उठाए गए कदमों पर कहा, “आयोग ने पाया है कि तथ्यों को देखते हुए और शिकायत में लगाए गए आरोपों के मद्देनजर सचिव के माध्यम से केन्द्रीय रक्षा मंत्रालय से एक तथ्यात्मक रिपोर्ट मांगना उचित होगा जिससे

 वर्तमान स्थिति और जम्मू और कश्मीर राज्य में शिकायतकर्ताओं द्वारा सेना के कर्मियों के मानवाधिकारों के उल्लंघन के आरोपों पर केंद्र सरकार द्वारा उठाए गए कदमों  की जानकारी मिले।

इस संबंध में एक पत्र केंद्रीय रक्षा सचिव को भेज दिया गया है, जिसमें चार सप्ताह के भीतर प्रतिक्रिया मिलने की उम्मीद है। ” मेजर आदित्य सिंह के पिता लेफ्टिनेंट कर्नल करमवीर सिंह ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की है, जिन्हें शोपियां फायरिंग के बाद दर्ज एफआईआर में नामजद किया गया था। पत्थरबाजों के खिलाफ एफआईआर न दर्ज करने पर भी सिंह ने सैनिकों के अधिकारों के संरक्षण के लिए दिशानिर्देशों की मांग की है ताकि “अपने कर्तव्यों के दौरान वास्तविक कार्रवाई के लिए आपराधिक कार्यवाही शुरू करने से किसी भी सैनिक को परेशान ना किया जा सके।”

Got Something To Say:

Your email address will not be published. Required fields are marked *


*