जीवन साथी चुनने का अधिकार एक मौलिक अधिकार, दो व्यस्कों के बीच शादी के लिए परिवार, समुदाय या कबीले की सहमति आवश्यक नहीं : सुप्रीम कोर्ट [निर्णय पढ़ें]जीवन साथी चुनने का अधिकार एक मौलिक अधिकार, दो व्यस्कों के बीच शादी के लिए परिवार, समुदाय या कबीले की सहमति आवश्यक नहीं : सुप्रीम कोर्ट [निर्णय पढ़ें]

जब दो वयस्क अपनी इच्छा से शादी करते हैं तो वे अपना रास्ता चुनते हैं; वे अपने रिश्ते को समाहित करते हैं; उन्हें लगता है कि यह उनका लक्ष्य है और उन्हें ऐसा करने का अधिकार है। सम्मान के नाम पर किसी भी...

अंतर जातीय विवाह करने वाले जोड़ों की सुरक्षा : सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा, जारी हो सकती हैं गाइडलाइनअंतर जातीय विवाह करने वाले जोड़ों की सुरक्षा : सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा, जारी हो सकती हैं गाइडलाइन

मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति एएम खानविलकर और न्यायमूर्ति डीवाई चंद्रचूड की बेंच ने सम्मान के लिए हत्या यानी ‘ऑनर किलिंग’ केअपराध के संबंध में एनजीओ शक्ति वाहिनी की याचिका पर अपना फैसला...

“ऑनर किलिंग” को लेकर सुप्रीम कोर्ट सख्त, कहा केंद्र कानून लाए नहीं तो कोर्ट फैसला लेगा
“ऑनर किलिंग” को लेकर सुप्रीम कोर्ट सख्त, कहा केंद्र कानून लाए नहीं तो कोर्ट फैसला लेगा

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को यह साफ कर दिया कि यदि कोई पुरूष और महिला विवाह करता है, तो कोई खाप पंचायत, व्यक्ति या समाज उनसे सवाल नहीं कर सकता।कोर्ट ने खाप पंचायतों को कानून अपने हाथों में लेने से...

Share it
Top