Download App
  • Download Livelaw Android App
  • Download Livelaw IOS App
Subscribe
जबरन यौन-संबंध है पत्नी की निजता में अवैध घुसपैठ या अनुचित हस्तक्षेप,माना जाएगा क्रूरता के समान-इलाहाबाद हाईकोर्ट [निर्णय पढ़े]जबरन यौन-संबंध है पत्नी की निजता में अवैध घुसपैठ या अनुचित हस्तक्षेप,माना जाएगा क्रूरता के समान-इलाहाबाद हाईकोर्ट [निर्णय पढ़े]

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने माना है कि जबरन सेक्स,अप्राकृतिक या प्राकृतिक,पत्नी की गोपनीयता में एक अवैध घुसपैठ या अनुचित हस्तक्षेप है और यह उसके पर क्रूरता करने के समान है। जस्टिस शशिकांत गुप्ता और जस्टिस...

IPC की धारा 80, 82 एवं 83 के अंतर्गत क्षम्य कृत्य क्या हैं?: दुर्घटनावश हुए कृत्य एवं इन्फैन्सी का प्रतिवाद विशेष [साधारण अपवाद श्रृंखला 2]IPC की धारा 80, 82 एवं 83 के अंतर्गत क्षम्य कृत्य क्या हैं?: दुर्घटनावश हुए कृत्य एवं इन्फैन्सी का प्रतिवाद विशेष ['साधारण अपवाद श्रृंखला' 2]

पिछले लेख में हमने समझा कि भारतीय दंड संहिता, 1860 के अंतर्गत 'साधारण अपवाद' (General Exceptions) क्या हैं और हमने यह भी समझा कि कैसे यह अध्याय ऐसे कुछ अपवाद प्रदान करता है, जहाँ किसी व्यक्ति का...

शारदा चिट फंड घोटाला : IPS राजीव कुमार को फिर नही मिली राहत, सुप्रीम कोर्ट ने सरंक्षण देने से किया इनकार
शारदा चिट फंड घोटाला : IPS राजीव कुमार को फिर नही मिली राहत, सुप्रीम कोर्ट ने सरंक्षण देने से किया इनकार

शारदा चिट फंड मामले में कोलकाता के पूर्व पुलिस आयुक्त और IPS अधिकारी राजीव कुमार की अग्रिम जमानत याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया है।'कुमार की याचिका नहीं है सुनवाई के...

सुप्रीम कोर्ट में अब पहली बार तय संख्या के मुताबिक 31 जज
सुप्रीम कोर्ट में अब पहली बार तय संख्या के मुताबिक 31 जज

सुप्रीम कोर्ट में शुक्रवार को 4 नए जजों के शपथ लेने के साथ ही सुप्रीम कोर्ट में अब क्षमता के अनुरूप 31 जज हो गए हैं। जस्टिस बी. आर. गवई, अनिरुद्ध बोस, ए. एस. बोपन्ना और सूर्यकांत नए जज हैं जिन्होंने...

किसी आरोपी को ज़मानत नहीं दे पाने के कारण उसे अनिश्चित काल तक के लिए जेल में नहीं रखा जा सकता है : सुप्रीम कोर्ट [आर्डर पढ़े]
किसी आरोपी को ज़मानत नहीं दे पाने के कारण उसे अनिश्चित काल तक के लिए जेल में नहीं रखा जा सकता है : सुप्रीम कोर्ट [आर्डर पढ़े]

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि किसी आरोपी को सिर्फ़ इसलिए अनिश्चित काल तक के लिए जेल में नहीं रखा जा सकता है क्योंकि वह कुछ ऐसी वजहों से ज़मानत नहीं दे सकता जो उसके वश में नहीं है।न्यायमूर्ति इंदिरा...

सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस गवई, जस्टिस सूर्यकांत, जस्टिस बोस और जस्टिस बोपन्ना ने ली शपथ
सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस गवई, जस्टिस सूर्यकांत, जस्टिस बोस और जस्टिस बोपन्ना ने ली शपथ

सुप्रीम कोर्ट में 4 नए जजों जस्टिस भूषण रामकृष्ण गवई, जस्टिस सूर्यकांत, जस्टिस अनिरुद्ध बोस और जस्टिस ए. एस. बोपन्ना ने शपथ ले ली। शुक्रवार को चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने चारों को पद की शपथ दिलाई। अब ...

सीआरपीसी की धारा 482 : हाईकोर्ट को कारण बताना चाहिए क्यों याचिका स्वीकार की गई या खारिज की गई-सुप्रीम कोर्ट [निर्णय पढ़े]
सीआरपीसी की धारा 482 : हाईकोर्ट को कारण बताना चाहिए क्यों याचिका स्वीकार की गई या खारिज की गई-सुप्रीम कोर्ट [निर्णय पढ़े]

सुप्रीम कोर्ट ने एक बार फिर से स्पष्ट कर दिया है कि हाईकोर्ट के लिए यह कारण बताना अनिवार्य है कि आपराधिक दंड प्रक्रिया संहिता यानि सीआरपीसी की धारा 482 के तहत दायर याचिका को स्वीकार या अस्वीकार क्यों...

NRC में नाम शामिल नहीं होने के ख़िलाफ़ अपील की अनुमति तभी जब विदेशी अधिकरण ने राष्ट्रीयता के मुद्दे पर कोई निर्णय नहीं लिया है : सुप्रीम कोर्ट
NRC में नाम शामिल नहीं होने के ख़िलाफ़ अपील की अनुमति तभी जब विदेशी अधिकरण ने राष्ट्रीयता के मुद्दे पर कोई निर्णय नहीं लिया है : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि विदेशी अधिकरण के समक्ष नेशनल रेजिस्टर ऑफ़ सिटिज़ेन्स में नाम नहीं होने की शिकायत तभी की जा सकती है अगर अधिकरण ने इस बारे में निर्णय नहीं लिया ही कि संबंधित व्यक्ति भारतीय...

पत्नी को दिया जाने वाला गुजारा भत्ता नहीं है कोई दान या इनाम-दिल्ली हाईकोर्ट [निर्णय पढ़े]
पत्नी को दिया जाने वाला गुजारा भत्ता नहीं है कोई दान या इनाम-दिल्ली हाईकोर्ट [निर्णय पढ़े]

दिल्ली हाईकोर्ट ने विकास भूषण बनाम राज्य व अन्य के मामले में माना है कि पत्नी को दिया जाने वाला गुजारा कोई दान या इनाम नहीं है। यह राशि उसके गुजर-बसर या उत्तरजीविता के लिए दी गई है।जस्टिस संजीव...

Share it
Top